Covid-19 Update

2,06,832
मामले (हिमाचल)
2,01,773
मरीज ठीक हुए
3,511
मौत
31,810,427
मामले (भारत)
200,650,253
मामले (दुनिया)
×

गुस्सा : कोटली में OPD के भीतर बंद किए Doctor

गुस्सा : कोटली में OPD के भीतर बंद किए Doctor

- Advertisement -

people protest : गर्भवती महिला की मौत पर बेकाबू हुए परिजन

people protest : मंडी। गर्भवती महिला की मौत पर गुस्साए परिजनों ने डॉक्टरों को ही ओपीडी में बंद कर दिया। यह सारा मामला मंडी के कोटली स्थित स्वास्थ्य केंद्र में सामने आया है। इस दौरान लोगों ने स्वास्थ्य केंद्र के बाहर जमकर प्रदर्शन भी किया। गौर रहे कि गुरुवार रात कोटली गांव में एक गर्भवती महिला की मौत हो गई।

स्वास्थ्य केंद्र के बाहर दिया धरना

परिजनों का आरोप है कि महिला को समय पर उपचार नहीं मिल पाया। उनका कहना है कि गंभीर हालत के चलते महिला को मंडी ले जाने के लिए एक एंबुलेंस तक मुहैया नहीं करवाई गई। धरने पर बैठे लोगों का कहना है कि महिला को अगर समय पर इलाज और साधन दोनों मिल जाते तो शायद उसकी जान बच जाती है।


आखिर क्या था मामला

मिली जानकारी के अनुसार 25 वर्षीय रविना देवी को उसके गांव लोधन से उपचार के लिए बीती रात को नागरिक चिकित्सालय कोटली में भर्ती करवाया गया। महिला को सांस लेने में तकलीफ थी और वह 5 माह की गर्भवती से थी। कोटली अस्पताल में मौजूद डाक्टरों ने प्राथमिक उपचार के बाद महिला को जोनल हास्पिटल मंडी के लिए रेफर कर दिया। अस्पताल में एंबुलेंस तो थी लेकिन उसमें कोई तकनीकी खराबी थी, जिस कारण जोनल हास्पिटल मंडी से एंबुलेंस भेजी गई। जब तक एंबुलेंस कोटली अस्पताल पहुंची उतने को महिला की मौत हो चुकी थी। इसी बात से गुस्साए मृतका के परिजनों ने अस्पताल में हंगामा कर दिया। अस्पताल प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग, जिला प्रशासन और राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई। यह हंगामा आज दोपहर तक जारी रहा। इसके बाद पुलिस ने हस्तक्षेप करते हुए मामले को शांत करवाया। पुलिस ने परिजनों की शिकायत पर लापरवाही का मामला दर्ज कर दिया है, हालांकि इसकी पुष्टि अभी नहीं हुई है। वहीं मृतका के शव को पोस्टमार्टम के लिए जोनल हास्पिटल मंडी भेज दिया है।

बदहाल स्वास्थ्य सेवाएं, लोगों में रोष

लोगों में गुस्सा इस बात को लेकर है कि उनके इलाके में बदहाल स्वास्थ्य सेवाएं चल रही हैं। कोटली में नागरिक चिकित्सायल होने के बावजूद इसे मात्र एफआरयू बनाकर रख दिया गया है। यहां आने वाले मरीजों को सिर्फ रेफर करने का ही कार्य किया जा रहा है। वहीं लोगों में इस बात को लेकर भी आक्रोश देखने को मिला कि इतनी बड़ी घटना होने के बाद भी मौके पर सीएमओ और बीएमओ ने आना उचित नहीं समझा। मृतका के परिजनों ने इस पूरे मामले की उच्च स्तरीय जांच की मांग की है।

HRTC की Bus के नीचे आया मासूम, Death

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है