Covid-19 Update

1,35,782
मामले (हिमाचल)
99,400
मरीज ठीक हुए
1925
मौत
22,992,517
मामले (भारत)
159,607,702
मामले (दुनिया)
×

सड़क मरम्मत को PWD लाचार, लोग फतेहपुर उपचुनाव का करेंगे बहिष्कार

दरोट के लोगों ने सरकार को दी चेतावनी, मार्ग की मांगी मरम्मत

सड़क मरम्मत को PWD लाचार, लोग फतेहपुर उपचुनाव का करेंगे बहिष्कार

- Advertisement -

रविन्द्र चौधरी/फतेहपुर। हिमाचल (Himachal) के कांगड़ा (Kangra) जिला के विधानसभा फतेहपुर क्षेत्र के तहत पड़ती पंचायत भाटियां के गांव दरोट के लोगों ने सड़क की मरम्मत ना किए जाने पर फतेहपुर विधानसभा उपचुनाव के बहिष्कार की चेतावनी दी है। लोगों ने जयराम सरकार व पीडब्ल्यूडी (PWD) को चेतावनी दी है कि अगर उनके गांव को जाने वाले एकमात्र मार्ग की मरम्मत एक माह के भीतर ना की गई तो सभी गांववासी संयुक्त रूप से आने वाले विधानसभा चुनाव का बहिष्कार (Boycott) करेंगे। वहीं, सड़क मरम्मत को लेकर पीडब्ल्यूडी लाचार दिख रहा है। क्योंकि यह मार्ग विधायक निधि से बनाया गया। ऐसे में इसकी मरम्मत पंचायत स्तर पर हो सकती है।


यह भी पढ़ें: हिमाचल : सड़क का निरीक्षण करने पहुंचे PWD के जेई पर बाप-बेटे ने किया डंडों से हमला

गांववासियों में हरनाम सिंह, चूहड़ सिंह, रुमाल सिंह, महिला मंडल प्रधान इच्छया देवी, नीलम कुमारी, मोहन सिंह व अशोक सहित अन्य ने बताया उनके गांव को जाने वाले मार्ग को विभाग द्वारा करीब 15 वर्ष पूर्व बनवाया था, लेकिन उसके बाद एक बार भी रिपेयर नहीं की, जिस कारण अब मार्ग दिन प्रतिदिन उखड़ता हुआ बद से बदतर बनता जा रहा है। कई बार विभाग को मार्ग की मरम्मत करने का निवेदन किया, लेकिन कोई राहत ना मिली। उक्त मार्ग से तीन गांव दरोट, चंगाल व देहरियां दा लाहड़ के लोगों को सुविधा मिलती है। उक्त लोगों का कहना है कि फतेहपुर से पूर्व में रहे विधायक स्वर्गीय सुजान सिंह पठानिया ने उक्त मार्ग को बाड़े दा पीर नामक जगह पर मलहंता मार्ग से जोड़ने के लिए विभाग के पास विधायक निधि (Legislative Fund) भी जमा करवाई थी, लेकिन अभी तक भी मार्ग का काम नहीं किया जा सका है।

पीडब्ल्यूडी के जेई एसएस कालिया (JE SS Kalia) ने बताया कि उक्त मार्ग विधायक निधि से बना है, उसकी मरम्मत अब पंचायत स्तर पर हो सकती है। गांववासी पंचायत के माध्यम से सरकार से फंड का अनुरोध कर सकते हैं। डिपॉजिट फंड (Deposit Fund) से बने रास्ते पीडब्ल्यूडी द्वारा बनाएं तो जाते हैं, लेकिन उनकी देखरेख एक सीमित अवधि तक ही संबंधित ठेकेदार द्वारा करवाई जा सकती है। समय अवधि खत्म होने के बाद पंचायतें उस मार्ग की देखरेख करने में सक्षम होती हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है