Covid-19 Update

59,014
मामले (हिमाचल)
57,428
मरीज ठीक हुए
984
मौत
11,190,651
मामले (भारत)
116,428,617
मामले (दुनिया)

कुत्ते की अस्थियां गंगा में विसर्जित करने के लिए New Zealand से भारत आया शख्स

कुत्ते की अस्थियां गंगा में विसर्जित करने के लिए New Zealand से भारत आया शख्स

- Advertisement -

बिहार। रश्त्र्पिता महात्मा गांधी ने कहा था कि किसी सभ्य मानव समाज की पहचान इस बात से होती है कि लोग वहां पशुओं के साथ कैसा बर्ताव करते हैं। बिहार स्थित पूर्णिया के मधुबनी मोहल्ला निवासी प्रमोद चौहान ने इस मानव व्यवहार की अवधारणा को ऊंचा उठाते हुए एक अनोखी मिसाल पेश की है। प्रमोद चौहान के पशुप्रेम की यह कहानी चर्चा का विषय बना हुआ है। दरअसल पिछले 40 साल से न्यूज़ीलैंड में रह रहे प्रमोद कुमार अपने कुत्ते लाइकन की अस्थियां गंगा में विसर्जित करने के लिए भारत आए थे।

यह भी पढ़ें: एसपी सौम्या प्रताड़ना मामला : Zaidi के खिलाफ दूसरी Chargesheet जारी, सरकार ने मांगा जवाब

लाइकन की मौत न्यूज़ीलैंड में ही हुई थी और कुमार ने वहां हिंदू रीति-रिवाज़ों के अनुसार उसका अंतिम संस्कार किया और फिर उसकी अस्थियां लेकर भारत आए थे। यही नहीं प्रमोद चौहान ने गया जाकर अपने प्यारे साथी के लिए तर्पण भी किया। वे तर्पण के 30 दिनों के बाद भंडारा भी करने जा रहे हैं। प्रमोद बताते हैं कि लाइकन मेरे परिवार का एक अभिन्न सदस्य था। इसलिए लाइकन के गुजरने के बाद वहां हिन्दू रीति से उसका दाह संस्कार किया और उसकी अस्थियां लेकर भारत आकर पटना के मोक्षदायिनी गंगा में प्रवाहित की। वहीं स्थानीय लोगों का मानना है कि इन्होंने पशुप्रेम का एक खास उदाहरण पेश किया है। उनके पारिवारिक मित्र इसे पशुप्रेम का अद्भुत प्रसंग बता रहे हैं। वहीं इसे मानवता के लिए प्रेरक भी बताया जा रहा है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group…

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है