Covid-19 Update

1,98,551
मामले (हिमाचल)
1,90,377
मरीज ठीक हुए
3,375
मौत
29,505,835
मामले (भारत)
176,585,538
मामले (दुनिया)
×

Physiotherapist संदिग्ध मौत मामला : CBI जांच पर अड़े परिजन 

Physiotherapist संदिग्ध मौत मामला : CBI जांच पर अड़े परिजन 

- Advertisement -

परिजन बोले, ज्योति ने आत्महत्या नहीं की बल्कि उसकी हत्या हुई है

रामसिंह/ बिलासपुर। अस्पताल में कार्यरत फ़िजियोथेरेपिस्ट ज्योति ठाकुर की  6 सितंबर को रोड़ा स्थित आवास पर सदिग्ध अवस्था में हुई मौत के मामले पर उसके परिजनों ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए पुलिस और अस्पताल प्रशासन  पर ऊंगली उठाते हुए इस मामले की निष्पक्ष और उच्चस्तरीय सीबीआई जांच करवाने के मांग की है। परिजनों का कहना है कि इस मामले में दोषियों को किसी भी सूरत में बख्शा नहीं जाना चाहिए। ज्योति ठाकुर के पिता सेवानिवृत्त तहसीलदार रामचंद ठाकुर और उनकी पत्नी सिमरो देवी  तथा पुत्र आशीष ठाकुर ने अपने अन्य परिजनों की उपस्थिति में पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा है कि उनकी पुत्री ने आत्महत्या नहीं की है बल्कि उसकी  हत्या करके उसे फंदे से लटकाया गया है। उन्होंने कहा कि पुलिस प्रशासन और विशेष जांच दल ने इस मामले की जांच करके दोषियों को पकड़ने की बजाय उन्हें बचाने का प्रयास किया है इसलिए उन्हें जांच अधिकारियों द्वारा की जाने वाली जांचों पर से पूरी तरह विश्वास उठ गया है। उन्होंने कहा कि ज्योति के शरीर पर पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार पांच चोटों के निशान हैं, जिससे स्पष्ट है कि उसे मार कर फंदे पर लटकाया गया है।

सोमवार के लक्ष्मीनारायण मंदिर से डीसी आफिस तक निकाला जाएगा मशाल जुलूस

उन्होंने एक निजी अस्पताल के एक डाक्टर का नाम बताते हुए कहा कि उसने हमें घर फोन करके केस को वापस लेने के लिए कहा कि उसे पुलिस तंग कर रही है और रिपोर्ट के अनुसार उसने आत्महत्या की है इसलिए केस को वापस ले लिया जाए।  ज्योति के परिजनों ने आरोप लगाया कि पुलिस ने उन्हें फ़ोन पर सूचना देकर घटना की जानकारी देते हुए कहा था कि वे दरवाजा तब खोलेंगे जब वे यहां बिलासपुर पहुंचेंगे किन्तु जब वे ज्योति के आवास पर आए तो दरवाजा खुला था और सभी साक्ष्य मिटा दिए जाने के प्रयास किए गए थे और तब भी वह डाक्टर वहां उपस्थित था ।
उन्होंने कहा कि यह एक जघन्य अपराध है इसलिए इस मामले की सीबीआई से जांच करवाया जाना अत्यंत आवश्यक है।उनके साथ बिटिया फाउंडेशन की अध्यक्ष सीमा सांख्यान और अर्द्धनारेश्वर समाज सेवा की अध्यक्ष बिजली भी उपस्थित थी।  जिन्होंने घोषणा की है कि सोमवार को नगर के लक्ष्मीनारायण मंदिर से डीसी आफिस तक मशाल जलूस निकाला जायगा और परिवार को न्याय दिलवाने के लिए संघर्ष शुरू किया जाएगा | उन्होंने भी प्रदेश सरकार और राज्यपाल से इस मामले की सीबीआई से जांच करवाने की मांग की है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है