Covid-19 Update

2,00,043
मामले (हिमाचल)
1,93,428
मरीज ठीक हुए
3,413
मौत
29,821,028
मामले (भारत)
178,386,378
मामले (दुनिया)
×

पीएम इमरान खान की पोल खुली: आतंकियों के खिलाफ एफआईआर था दिखावा

पीएम इमरान खान की पोल खुली: आतंकियों के खिलाफ एफआईआर था दिखावा

- Advertisement -

नई दिल्ली। पाकिस्तान (Pakistan) के पीएम इमरान खान (PM Imran Khan) की आतंकियों के खिलाफ झूठी एफआईआर (FIR) की पोल खुल चुकी है। याद हो कुछ समय पहले पाकिस्तान ने देश में रह रहे आतंकी सगंठनों के खिलाफ एफआईआर की बात कही थी लेकिन अब ये बात सामने आई है कि  उन आतंकियों के खिलाफ एफआईआर करवाना महज एक दिखावा था। इमरान के झूठ की पोल पाकिस्तान के एक थाने में दर्ज की गई एफआईआर से खुल चुकी है। आतंकियों को आर्थिक सहायता पर रोक लगाने वाली अंतरराष्ट्रीय संस्थान फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FTF) की अक्टूबर में बैठक होगी, जिसमें फैसला लिया जाना है कि आतंकियों के शरणदाता पाकिस्तान को ब्लैक लिस्ट (Blacklist) में रखा जाए या नहीं। इस बैठक से पहले ही पाकिस्तान अपने बचाव में जुट गया है।

यह भी पढ़ेंशादी समारोह में जोरदार बम धमाका : 40 की मौत, 100 घायल


इससे पहले पाकिस्तान के गुजरवालां में एक जुलाई को लश्कर ए तैयबा और जमात उद दावा से जुड़े आतंकियों पर एफआईआर दर्ज होने की सूचना थी। इसमें आतंकी के दावात-वल इरशद नामक संगठन से जुडे़ होने की बात कही गई। मामला एक जमीन के सौदे का था। यह केस अदालत में टिक नहीं पाएगा क्योंकि एफआईआर में जिस दावात वल इरशद को प्रतिबंधित संगठन बताया गया है, उसका नाम बदलकर अब जमात उद दावा हो चुका है, जो कि लश्कर ए तैयबा से जुड़ा आतंकी संगठन है।

इस एफआईआर में आतंकी सरगना हाफिज मोहम्मद सईद सहित चार अन्य आतंकियों के नाम नहीं हैं। जबकि इन जमीनों का इस्तेमाल यही आतंकी करते हैं। जमीनों के सौदे से ही आतंकियों की फंडिंग भी होती है। यानी सभी आरोपियों के नाम न तो एफआईआर में दर्ज हैं और न ही उनके अपराधों का एफआईआर में कहीं जिक्र किया गया है। अभी पाकिस्तान के ब्लैकलिस्ट होने का फैसला लिया जाना है ऐसे में पाकिस्तान आतंकियों के खिलाफ नकली और आधे-अधूरे मामले दर्ज कर दुनिया को कार्रवाई के नाम पर गुमराह कर ब्लैक लिस्ट होने से बचना चाहता है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group … … 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है