Covid-19 Update

58,879
मामले (हिमाचल)
57,406
मरीज ठीक हुए
983
मौत
11,173,761
मामले (भारत)
116,220,912
मामले (दुनिया)

Statue of Unity को जोड़ेंगी आठ ट्रेन, PM Narendra Modi ने दिखाई हरी झंडी

भारतीय रेलवे के मैप पर स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को भी मिल जाएगी जगह, सैलानी बिना परेशानी से पहुंच सकेंगे

Statue of Unity को जोड़ेंगी आठ ट्रेन, PM Narendra Modi ने दिखाई हरी झंडी

- Advertisement -

नई दिल्ली। पीएम नरेंद्र मोदी ने आज गुजरात के केवड़िया में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए विश्व की सबसे बड़ी प्रतिमा स्टैच्यू ऑफ यूनिटी (Statue of Unity) को जोड़ने वाली आठ ट्रेनों को हरी झंडी दिखाई। पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi ) ने कहा कि भारत के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि एक साथ किसी खास जगह पर जाने के लिए आठ ट्रेनों को हरी झंडी दिखाई गई है। ये आठ ट्रेनें केवड़िया को वाराणसी, दादर, अहमदाबाद, हजरत निजामुद्दीन, रीवा, चेन्नई और प्रतापनगर से जोड़ेंगी। इस योजना के साथ ही भारतीय रेलवे के मैप पर स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को भी जगह मिल जाएगी साथ ही केवड़िया के रेल लिंक से जुड़ने से यहां देश भर से सैलानी बिना किसी परेशानी से पहुंच सकेंगे। पीएम ने कहा कि इन ट्रेनों में विस्टा डोम स्ट्रक्चर की सुविधा है जिससे यात्री चलते हुए आस-पास के नजारों का आनंद ले सकेंगे।

पीएम मोदी ने केवड़िया रेलवे स्टेशन (Kevadia Railway Station) का उद्घाटन भी किया है। इसके अलावा उन्होंने ब्रॉडगेज लेन का भी उद्घाटन किया। पीएम मोदी ने कहा कि अब केवड़िया देश का कोई छोटा-मोटा शहर नहीं रह गया है। केवड़िया में अब स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी से भी ज्यादा लोग सरदार पटेल की प्रतिमा स्टैच्यू ऑफ यूनिटी देखने को पहुंच रहे हैं। उन्होंने कहा कि अब तक 50 लाख लोग इस प्रतिमा को देख चुके हैं। पीएम मोदी ने कहा कि एक अध्ययन के मुताबिक कुछ दिन बाद यहां रोजाना 1 लाख लोग पहुंचेंगे। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि ये इन ट्रेनों का डिजाइन बेहद शानदार है। इन ट्रेनों की यात्रा के दौरान लोग मां नर्मदा की घाटियों के मनोरम दृश्य का आनंद उठा सकेंगे।

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा –

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी ने इस स्थान की रूप रेखा पूरी तरह से बदल दी है। कई आदिवासियों को यहां रोजगार मिल रहा है। लोग मैनेजर बन रहे हैं, कैफे खोल रहे हैं, पर्यटक गाइड बन गए हैं। पीएम ने कहा कि केवड़िया को रेल से कनेक्ट करने वाले प्रोजेक्ट का उदाहरण देखें तो इसके निर्माण में मौसम, कोरोना महामारी, अनेक प्रकार की बाधाएं आई, लेकिन रिकॉर्ड समय में इसका काम पूरा किया गया।

केवड़िया का उदाहरण है कि कैसे इकोलॉजी और इकोनॉमी के संगम से रोजगार के अवसर पैदा किए जा सकते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रेलवे में काया पलट की कहानी बताई।

छोटा सा खूबसूरत केवड़िया इस बात का बेहतरीन उदाहरण है कि कैसे प्लान तरीके से पर्यावरण की रक्षा करते हुए इकोनॉमी और इकोलॉजी दोनों का तेजी से विकास किया जा सकता है।

रेलवे में नई सोच नई तकनीक से काम हुआ है। PM ने कहा कि अब रेलवे में कायापलट की वजह से हम सेमी हाई स्पीड ट्रेन चलाने में सक्षम हुए हैं, इसके अलावा हम हाई स्पीड ट्रेन चलाने की दिशा में काम कर रहे हैं। इसके लिए रेलवे का बजट कई गुना बढ़ा दिया गया है। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद हमारी ज्यादातर ऊर्जा पहले से जो रेल व्यवस्था थी उसको सुधारने में लगी रही, उस दौरान नई सोच और तकनीक पर फोकस कम रहा।

ये रेल लाइनें मां नर्मदा के तट पर बसे करनाली, पोईचा और गरुड़ेश्वर जैसे आस्था से जुड़े महत्वपूर्ण स्थानों को भी कनेक्ट करेगी। यह पूरा क्षेत्र एक प्रकार से Spiritual Vibration से भरा हुआ क्षेत्र है। भारतीय रेल पारंपरिक सवारी और मालगाड़ी वाली अपनी भूमिका निभाने के साथ ही हमारे प्रमुख टूरिस्ट और आस्था से जुड़े सर्किट को भी सीधी कनेक्टिविटी दे रही है।

अनेक रूट्स पर विस्टाडोम वाले कोचेस भारतीय रेल की यात्रा को और आकर्षक बनाने वाले हैं। बीते वर्षों में देश के रेलवे इंफ्रास्ट्रक्चर को आधुनिक बनाने के लिए जितना काम हुआ है वह अभूतपूर्व है।

बीते वर्षों में देश में रेलवे के पूरे तंत्र में व्यापक बदलाव करने के लिए काम किया गया। ये काम सिर्फ बजट बढ़ाना, घटाना, नई ट्रेनों की घोषणा करने तक सीमित नहीं रहा।ये परिवर्तन अनेक मोर्चों पर एक साथ हुआ है।

अब जैसे केवडिया को रेल से कनेक्ट करने वाले इस प्रोजेक्ट का ही उदाहरण देखें तो इसके निर्माण में मौसम और कोरोना महामारी जैसी अनेक बाधाएं आई। लेकिन रिकॉर्ड समय में इसका काम पूरा किया गया।

आज जब भारतीय रेल के ट्रांसफॉर्मेशन की तरफ हम आगे बढ़ रहे हैं तो उसके लिए Highly skilled specialist मैनपॉवर और professionals भी बहुत जरूरी है। बड़ोदरा में भारत की पहली डीम्ड यूनिवर्सिटी की स्थापना के पीछे यही मकसद है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है