Covid-19 Update

2,17,615
मामले (हिमाचल)
2,12,133
मरीज ठीक हुए
3,643
मौत
33,563,421
मामले (भारत)
230,985,679
मामले (दुनिया)

बाबा भलकु की स्मृति में कालका-शिमला रेल ट्रैक पर गूंजी कविताएं

बाबा भलकु की स्मृति में कालका-शिमला रेल ट्रैक पर गूंजी कविताएं

- Advertisement -

शिमला। हिमालय साहित्य मंच ने बाबा भलकु की स्मृति में आज कालका-शिमला रेलवे ट्रैक पर काव्य  और पर्यावरण यात्रा का आयोजन किया। जिसमें 35 लेखक व मंच के सदस्य सुबह 8.15 बजे शिमला रेलवे स्टेशन से रेलगाड़ी में सवार होकर निकले। सभी लेखकों ने ट्रेन में संगोष्ठी का आयोजन किया और लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरूक किया।

दोपहर बाद कंडाघाट रेलवे स्टेशन पर ही एक साहित्यिक गोष्ठी का आयोजन होगा। हिमालय मंच के लेखकों सहित स्थानीय और दूर दराज से भाग लेने आये लेखक, कलाकार और छात्र भी इस जागरूकता यात्रा में भाग ले रहे है। यह यात्रा शिमला, संमरहिल, केथलीघाट, कनोह और कंडाघाट रेलवे स्टेशनों के अधिकारियों के सहयोग से की जा रही है। शिमला रेलवे स्टेशन के अधीक्षक प्रिंस सेठी ने यात्रा को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।

लेखक और हिमालय साहित्य मंच के अध्यक्ष एसआर हरनोट ने कहा कि यह अनूठी यात्रा साहित्य और पर्यावरण जागरूकता की दृष्टि से दुर्लभ प्रतिभा के धनी मजदूर बाबा भलकु की स्मृति में वर्ष 2018 में शुरू की गई थी। इस यात्रा में लेखक पहले चलती रेलगाड़ी में शिमला से बड़ोग तक साहित्य गोष्ठी करते हैं और फिर चायल स्थित बाबा भलकु के पुस्तैनी घर झाझा जाकर उनके परिवार से मिलकर वहां साहित्यिक गोष्ठी करते हैं। वर्ष 2018 और 2019 में इन यात्राओं और गोष्ठियों के सफल आयोजनों के बाद कोविड के कारण गत वर्ष यात्रा नहीं हो पायी थी इसलिए इसी वजह से कोविड नियमों की अनुपालना करते हुए इस बार यात्रा और गोष्ठी का स्वरुप छोटा रखा गया है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए Subscribe करें हिमाचल अभी अभी का Telegram Channel…

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है