×

ठगों की तिकड़ीः एमबीए छात्र, ड्राइवर और डकैत, ऊना पुलिस ने दो धरे

ठगों की तिकड़ीः एमबीए छात्र, ड्राइवर और डकैत, ऊना पुलिस ने दो धरे

- Advertisement -

ऊना। एक अध्यापक को बीमा पॉलिसी में अधिक लाभ का लालच देकर 26 लाख 80 हजार रुपए की ठगी (Thug) के दो आरोपियों को दबोचने में पुलिस ने सफलता हासिल की है। पुलिस ने इस मामले को 15 दिनों में ही सुलझाकर दोनों आरोपियों को दिल्ली से गिरफ्तार(Arrest)  किया है। पुलिस की मानें तो यह एक बहुत बड़ा शातिर गिरोह है, जिसके अन्य साथियों को भी जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा। एएसपी ऊना विनोद धीमान ने बताया कि यह लोग इंटरनेट के माध्यम से लोगों को अपनी बातों के जाल में उलझाकर ठगी का शिकार बनाते थे। पकड़े गए आरोपियों में से एक एमबीए का छात्र (MBA Student)  है, जबकि एक ड्राइवर (Driver) है। इस गिरोह का एक अन्य सदस्य पहले ही दिल्ली (Delhi) में डकैती के मामले में बंद है।


 

नंगल जरियाला के अध्यापक के साथ बीमा पॉलिसी के नाम से की थी ठगी

ऊना पुलिस ने ऑनलाइन ठगी (Online thug) करने वाले एक गिरोह का भंडाफोड़ किया है, जोकि छोटे-छोटे गांव या कस्बों में रहने वाले लोगों को बीमा पॉलिसी पर अधिक लाभ देने का लालच देकर ठगी का शिकार बनाते थे। ऊना पुलिस द्वारा पकड़े गए इस गिरोह पर गगरेट क्षेत्र के गांव नंगल जरियाला के अध्यापक को बीमा पॉलिसी में अधिक लाभ देने का लालच देकर 26 लाख 80 हजार रुपए ठगने का आरोप था। पुलिस द्वारा आरोपी दीपक को दिल्ली के पहाड़गंज इलाके से दबोचा गया, जबकि अमर सिंह को सीमापुरी से गिरफ्तार किया गया है। गगरेट पुलिस थाना में पीड़ित अध्यापक द्वारा करीब 15 दिन पहले ही ठगी का मामला दर्ज करवाया गया था। जिसके बाद इस मामले को सुलझाने के लिए पुलिस की एक टीम (Police Team) का गठन किया गया। पुलिस टीम बैंक खातों और मोबाइल नंबरों के आधार पर दिल्ली पहुंची, जहां पुलिस के समक्ष इस गिरोह को लेकर कई अहम खुलासे हुए। पकड़े गए आरोपियों में से अमर सिंह एमबीए की पढ़ाई कर रहा है, जबकि दीपक पेशे से ड्राइवर है, वहीं इनका एक साथी रितिक बंसल दिल्ली में ही हुई डकैती मामले में जेल में बंद है। दिल्ली जेल में बंद रितिक बंसल को भी ऊना पुलिस ट्रांजिट रिमांड पर लेने की प्रक्रिया पूरी करने में जुट गई है, ताकि एक-एक कर सभी कड़ियां खुल कर सामने आ सकें।

 

यह भी पढ़ें :-सोलन हादसे की होगी “न्यायिक जांच,” बिल्डिंग मालिक पर भी कार्रवाई की तलवार 

 

 

दिल्ली से ही अपना नेटवर्क चला रहा था गिरोह

 अभी तक हुई जांच में खुलासा हुआ है कि यह गिरोह देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) से ही अपना नेटवर्क चला रही थी। इस गिरोह द्वारा बकायदा एक फर्म भी बनाई गई थी, जिसके माध्यम से यह ठगी की वारदातों को अंजाम देते थे। आरोपियों द्वारा खुलवाए गए बैंक खाते भी फर्जी दस्तावेजों के आधार पर खुलवाए गए थे। अपने बैंक खातों (Bank Accounts) में ठगी की राशि आने के बाद आरोपी अलग-अलग एटीएम मशीनों से पैसे की निकासी करते थे। एएसपी ऊना विनोद धीमान की माने तो यह गिरोह बहुत ही शातिराना तरीके से छोटे कस्बों और गांव के लोगों को बड़ी बड़ी रकम का लालच देकर अपने जाल में फंसाता था। एएसपी ऊना ने दावा किया कि इस गिरोह में और लोग भी शामिल है जिसे लेकर पुलिस टीम जांच कर रही है।

 

 

एएसपी की जुबां सुनें, कैसे करते थे ठगी

एएसपी विनोद धीमान ऊना की माने तो पिछले कुछ समय से ऑनलाइन ठगी के मामले बढ़ते जा रहे है। एएसपी ऊना ने कहा कि ऊना जिला में ऐसे ही ठगी के तीन से चार मामले दर्ज हैं, जिन्हें लेकर पुलिस पूरी शिद्दत से काम कर रही है। एएसपी ने बताया कि इस तरह के ठग गिरोह जाली दस्तावेजों के आधार पर बैंक खाते खुलवाते हैं, वहीं यह लोग एक मोबाइल और सिम भी सिर्फ एक-डेढ़ महीना ही इस्तेमाल करते हैं, जिस कारण इन तक पहुंचना काफी मुश्किल हो जाता है।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें ….

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है