Covid-19 Update

2,06,832
मामले (हिमाचल)
2,01,773
मरीज ठीक हुए
3,511
मौत
31,810,427
मामले (भारत)
200,650,253
मामले (दुनिया)
×

वीडियो: पार्टी कार्यकर्ता के घर जा रही प्रियंका को महिला अधिकारी ने गला पकड़ कर खींचा!

वीडियो: पार्टी कार्यकर्ता के घर जा रही प्रियंका को महिला अधिकारी ने गला पकड़ कर खींचा!

- Advertisement -

लखनऊ। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) ने उत्तर प्रदेश पुलिस पर बड़ा आरोप जड़ा है। आज लखनऊ दौरे पर गईं प्रियंका पूर्व आईपीएस अधिकारी एसआर दारापुरी के परिवार से मिलने के लिए निकलीं, लेकिन लखनऊ पुलिस ने 1090 चौराहे पर उनका काफिला रोक लिया। जिसके बाद प्रियंका गाड़ी से उतर कर पैदल ही उनके घर की ओर निकल पड़ीं। पुलिस-प्रशासन और उनकी सुरक्षा दस्ते को जब तक कुछ समझ आता प्रियंका गांधी पैदल मार्च करते चल पड़ीं। लेकिन प्रियंका गांधी का आरोप है कि इस दौरान UP Police ने उनके साथ ज्यादती की।

यह भी पढ़ें: अलर्ट: अगले महीने 14 दिन बंद रहेंगे बैंक, छुट्टी से होगी साल की शुरुआत; देखें लिस्ट


उप्र पुलिस की ये क्या हरकत है। अब हम लोगों को कहीं भी आने जाने से रोका जा रहा है। मैं रिटायर्ड पुलिस अधिकारी और अंबेडकरवादी सामाजिक कार्यकर्ता एस आर दारापुरी के घर जा रही थी। उप्र पुलिस ने उन्हें एन आर सी और नागरिकता कानून का शांतिपूर्वक विरोध करने पर घर से उठा लिया है। मुझे बलपूर्वक रोका और महिला अधिकारी ने मेरा गला पकड़ कर खींचा। मगर मेरा निश्चय अटल है। मैं उत्तर प्रदेश में पुलिस दमन का शिकार हुए हरेक नागरिक के साथ खड़ी हूं। मेरा सत्याग्रह है। भाजपा सरकार कायरों वाली हरकत कर रही है। मैं उत्तर प्रदेश की प्रभारी हूं और मैं उत्तर प्रदेश में कहां जाऊंगी ये भाजपा सरकार नहीं तय करेगी।

Priyanka Gandhi Vadra ଙ୍କ ଦ୍ୱାରା ଏହି ତାରିଖରେ ପୋଷ୍ଟ୍‌ ହୋଇଛି ଶନିବାର, ଡିସେମ୍ବର 28, 2019

प्रियंका का आरोप है कि मुझे रोका गया है। मुझे गला दबाकर पुलिस ने रोका। मुझे पकड़कर धकेला गया। इसके बाद गिर गई थी। मुझे लेडी पुलिस अधिकारी ने रोका था। इसके बाद मैं एक कार्यकर्ता के साथ स्कूटर पर बैठ कर गई। प्रियंका गांधी ने अपने ऑफिसियल फेसबुक वाल पर पुलिस ज्यादतियों पर लिखा ‘उप्र पुलिस की ये क्या हरकत है। अब हम लोगों को कहीं भी आने जाने से रोका जा रहा है। मैं रिटायर्ड पुलिस अधिकारी और सामाजिक कार्यकर्ता एस आर दारापुरी के घर जा रही थी। उप्र पुलिस ने उन्हें एनआरसी और नागरिकता कानून का शांतिपूर्वक विरोध करने पर घर से उठा लिया है। मुझे बलपूर्वक रोका और महिला अधिकारी ने मेरा गला पकड़ कर खींचा। मगर मेरा निश्चय अटल है। मैं उत्तर प्रदेश में पुलिस दमन का शिकार हुए हरेक नागरिक के साथ खड़ी हूं। मेरा सत्याग्रह है। बीजेपी सरकार कायरों वाली हरकत कर रही है। मैं उत्तर प्रदेश की प्रभारी हूं और मैं उत्तर प्रदेश में कहां जाऊंगी ये बीजेपी सरकार नहीं तय करेगी।’

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस Link पर Click करें… 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है