×

रिट्रीट में ठहरने की महामहिम की मुराद अब जाकर होगी पूरी 

रिट्रीट में ठहरने की महामहिम की मुराद अब जाकर होगी पूरी 

- Advertisement -

शिमला। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 20 से 24 मई को हिमाचल प्रदेश की यात्रा पर आ रहे हैं। दिलचस्प बात यह है कि राष्ट्रपति बनने से पहले भी कोविंद पिछले साल हिमाचल आ चुके हैं। उस समय वे खुद यहां से 14 किलोमीटर दूर ऐतिहासिक बिल्डिंग मशोबरा रिट्रीट को देखने पहुंचे थे। लेकिन, राष्ट्रपति भवन से अनुमति न होने के कारण रिट्रीट के स्टाफ ने उन्हें अंदर नहीं जाने दिया। अब इसे संयोग कहें या महामहिम की मुराद कि कोविंद अब बिहार के गवर्नर नहीं, बल्कि भारत के राष्ट्रपति हैं और वे उसी रिट्रीट में ठहरेंगे, जहां से वे खाली हाथ वापस लौट गए थे।
बात बीते साल की है, जब बिहार के गवर्नर के नाते कोविंद हिमाचल की यात्रा पर आए थे। उस समय वे हिमाचल प्रदेश के गवर्नर आचार्य देवव्रत के मेहमान थे। तब वे सरकारी गाड़ी से अंग्रेजी राज की ऐतिहसिक इमारत मशोबरा रिट्रीट को देखने आए थे। लेकिन, देश के राष्ट्रपति के लिए ही आरक्षित इस रिट्रीट के स्टाफ ने उन्हें अंदर नहीं आने दिया, क्योंकि तब कोविंद के पास राष्ट्रपति भवन से कोई लिखित आदेश नहीं था।
कोविंद इस खूबसूरत इमारत को बाहर से ही निहारकर भीतर जाने की हसरत लिए लौट आए थे। अब वे फिर हिमाचल आ रहे हैं, लेकिन इस बार बतौर राष्ट्रपति वे मशोबरा रिट्रीट में ही आकर ठहरेंगे। 1850 में बनी इस रिट्रीट का मैनेजमेंट राष्ट्रपति भवन खुद करता है। 987 वर्ग मीटर में फैले इस रिट्रीट को 1859 में ब्रिटिश राज ने अपने अधीन कर लिया था। आजादी के बाद राष्ट्रपति भवन ने इसे अपने कब्जे में ले लिया। हैदराबाद में राष्ट्रपति निलयम के बाद देश में महामहिम के लिए यह दूसरा रिट्रीट है। इस रिट्रीट से 500 मीटर आगे ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की बहन प्रियंका गांधी का कॉटेज भी है।


- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है