Covid-19 Update

2,26,859
मामले (हिमाचल)
2,22,190
मरीज ठीक हुए
3,825
मौत
34,555,431
मामले (भारत)
260,661,944
मामले (दुनिया)

उत्तरप्रदेशः पुलिस हिरासत में मारे गए दलित व्यक्ति के परिवार से मिलीं प्रियंका गांधी वाड्रा

प्रियंका ने पुलिस द्वारा की जा रही अराजकता के लिए सरकार की आलोचना की

उत्तरप्रदेशः पुलिस हिरासत में मारे गए दलित व्यक्ति के परिवार से मिलीं प्रियंका गांधी वाड्रा

- Advertisement -

आगरा। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने पुलिस हिरासत में मारे गए व्यक्ति के परिवार से मुलाकात की और न्याय के लिए उनकी लड़ाई में हर संभव मदद का वादा किया। प्रियंका बुधवार की आधी रात से ठीक पहले अरुण वाल्मीकि के घर पहुंचीं और वाल्मीकि के परिवार को हर संभव मदद का आश्वासन दिया। उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि अरुण वाल्मीकि के रिश्तेदारों ने मुझे बताया कि पूरे परिवार को प्रताड़ित किया गया था। उन्होंने दावा किया कि वाल्मीकि को बिजली के झटके दिए गए और उनके हाथों को पुलिस ने कुर्सी के नीचे कुचला भी था। इसके अलावा, वाल्मीकि समुदाय के लगभग 40 सदस्यों को भी गिरफ्तार किया गया था और प्रताड़ित किया गया।

इस महीने दूसरी बार लखनऊ में पुलिस द्वारा हिरासत में लिए जाने के बाद प्रियंका को चार अन्य लोगों के साथ आगे बढ़ने की अनुमति दी गई थी। इससे पहले लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे पर पहले टोल प्लाजा पर उनकी कार को रोका गया और उन्हें हिरासत में ले लिया गया था। उन्होंने कहा कि अगर मैं घर पर हूं, ठीक हूं। अगर मैं अपने कार्यालय जाती हूं, तब तक सब ठीक रहता है, लेकिन जैसे ही मैं कहीं और जाती हूं, वे यह तमाशा शुरू करते हैं। क्यों? मैं उस परिवार से मिलूंगी। यह हास्यास्पद हो रहा है, यातायात को देखो, लोग प्रभावित हो रहे हैं । प्रियंका ने देश में स्वतंत्र आवाजाही के अपने संवैधानिक अधिकार को भी रेखांकित किया। इस बीच आप सांसद संजय सिंह भी बुधवार देर रात आगरा पहुंचे और मृतक अरुण वाल्मीकि के परिवार से मुलाकात की।

प्रियंका गांधी वाड्रा पुलिस द्वारा की जा रही अराजकता के लिए राज्य सरकार की आलोचना की और कहा कि बीजेपी कानून-व्यवस्था की स्थिति को नियंत्रित करने में विफल रही है। उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि पहले पुलिस ने गोरखपुर में एक व्यापारी मनीष गुप्ता की हत्या की और अब एक निर्दोष व्यक्ति को हिरासत में मौत की सजा दी गई है।एक सफाई कर्मचारी अरुण वाल्मीकि पर एक इमारत से पैसे चुराने का आरोप लगाया गया था, जो पुलिस स्टेशन के साक्ष्य गोदाम में एक क्लीनर के रूप में काम करता था।पुलिस हिरासत में उसकी मौत हो गई। उसके शव का पोस्टमॉर्टम कराने के बाद शव परिवार को सौंप दिया गया है।

–आईएएनएस

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है