Expand

प्रियंका वाड्रा के खिलाफ केस से पीछे हटे वकील

प्रियंका वाड्रा के खिलाफ केस से पीछे हटे वकील

- Advertisement -

य़शपाल शर्मा/शिमला। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की बेटी प्रियंका वाड्रा के खिलाफ शिमला हाईकोर्ट में जमीन खरीद की जानकारी देने से जुड़े केस से अधिवक्ता विक्रांत ठाकुर ने अपना नाम वापस ले लिया है। कोर्ट में केस से नाम वापस लेने के लिए किए गए आवेदन को मंजूरी भी मिल गई है। आरटीआई कार्यकर्ता देवाशीष भट्टाचार्य के लिए प्रियंका के विरुद्ध विक्रान्त केस लड़ रहे थे। शुक्रवार को इस मामले में रोचक मोड़ आया और वकील विक्रांत ने जस्टिस त्रिलोक चौहान की अदालत में नाम वापस लेने की याचिका लगा दी। जिस पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने आग्रह को मान लिया और याचिका का निपटारा कर दिया। साथ ही कोर्ट ने भट्टाचार्य को निर्देश दिए कि वे 25 नवंबर 2016 को कोर्ट में हाजिर हों। इस दिन मामले को अंतिम सुनवाई और निपटारे के लिए सूचीबद्ध किया है। बता दें कि प्रियंका वाड्रा ने उनके जमीन खरीद मामले की अंतिम सुनवाई जल्द करने के लिए प्रदेश उच्च न्यायालय में याचिका दाखिल की थी। जिस पर इस साल जनवरी में न्यायाधीश त्रिलोक सिंह चौहान और न्यायाधीश पीएस राणा की पीठ ने दोनों पक्षों को सुनते हुए अदालत की रजिस्ट्री को सुनवाई की तारीख जल्द तय करने का निर्देश दिया था।

ppp1प्रियंका वाड्रा ने राज्य सूचना आयोग के उस निर्देश को अदालत में चुनौती दी है, जिसमें आयोग ने शिमला के उपायुक्त को यह निर्देश दिया था, कि वे सूचना अधिकार कार्यकर्ता देवाशीष भट्टाचार्य को प्रियंका वाड्रा द्वारा प्रदेश की राजधानी के बाहरी हिस्से में खरीदी गई जमीन से संबंधित जानकारी मुहैया कराएं। इससे पहले उच्च न्यायालय ने मुख्य सूचना आयुक्त भीम सेन और सूचना आयुक्त केडी बासित को अदालत की अवमानना के आरोप से मुक्त करने का फैसला सुनाया था। उन पर अदालत में दस्तावेज प्रस्तुत करने में कोताही बरतने के कारण अदालत की अवमानना का मामला चलाया गया था। प्रियंक वाड्रा द्वारा दाखिल अदालत की अवमानना याचिका पर इन अधिकारियों को कोर्ट ने पिछले साल 27 नवंबर को बुलाया था जहां इन्होंने बिना शर्त माफी मांगी थी। इसके बाद कोर्ट की पीठ ने अवमानना याचिका को रद कर दिया। प्रियंका वाड्रा ने यह आरोप लगाया था कि उच्च न्यायालय द्वारा दिए गए स्थगन आदेश के बावजूद सूचना आयोग ने इस मामले पर कार्रवाई जारी रखते हुए दस्तावेजों की मांग की। पिछले साल अगस्त में सूचना आयोग ने तत्कालीन उपायुक्त दिनेश मल्होत्रा समेत सरकारी अधिकारियों की खिंचाई की और जमीन मामले से संबंधित दस्तावेजों को तलब किया। उन अधिकारियों पर सूचना अधिकार के तहत जानकारी नहीं देने को लेकर दंडात्मक कार्रवाई की जा रही है। प्रियंका वाडा का कॉटेज शिमला से महज 15 किलोमीटर की दूरी पर जमीन से 8,000 फीट की ऊंचाई पर बन रहा है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है