Covid-19 Update

1,54,664
मामले (हिमाचल)
1,15,610
मरीज ठीक हुए
2219
मौत
24,372,907
मामले (भारत)
162,538,008
मामले (दुनिया)
×

एससी-एसटी एक्टः धमेटा और हमीरपुर में बोला हल्ला

एससी-एसटी एक्टः धमेटा और हमीरपुर में बोला हल्ला

- Advertisement -

हमीरपुर। एससी/एसटी एक्ट को लेकर लाए गए अध्यादेश के खिलाफ कथित तौर पर सवर्ण समुदाय तरफ से बुलाए गए भारत बंद का देशभर में व्यापक असर देखने को मिला। वहीं, हिमाचल के फतेहपुर ‌विधानसभा के धमेटा बजार में भी लोगों सड़कों पर उतरकर विरोध-प्रदर्शन किया। कर रहे हैं। विधानसभा फतेहपुर का धमेटा बाजार बंद रहा।


धमेटा बजार के व्यापारियों व दुकान दारों ने आज धमेटा के लोहर बाजार व अपर बाजार मे रैली निकाली। बाजार बंद के आह्वान को व्यापारियों और टैक्सी यूनियन ने भी अपना समर्थन दिया है। गौरतलब है कि आज कथित तौर पर अनुसूचित जाति एवं जनजाति अत्याचार अधिनियम को लेकर लाए गए अध्यादेश के खिलाफ सवर्ण समुदाय ने भारत बंद किया है।


हालांकि राष्ट्रीय स्तर पर किसी संगठन द्वारा बंद का आह्वान नहीं किया गया है। पुलिस-प्रशासन ने संवेदनशील इलाकों में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी है। वहीं, एससी/एसटी एक्ट को सरकार के द्वारा बदले जाने के विरोध में हमीरपुर गांधी चौक पर जोरदार धरना-प्रदर्शन किया गया।

इस अवसर पर स्वर्ण जातियों से जुडे़ विभिन्न पदाधिकारियों ने केंद्र सरकार और सांसदों को जमकर कोसा। फैसले को वापस लेने के लिए मांग की गई। अध्यक्ष प्रकाश ठाकुर ने कहा कि भारतीय संसद ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को बदला है, जिसे वापिस करवाने के लिए स्वर्ण समुदाय के लोगों ने प्रदर्शन किया। ब्राह्मण सभा के अध्यक्ष अवनीश अब्बू ने कहा कि सवर्ण समाज के सदस्यों ने एकत्रित होकर प्रदर्शन किया है।

राष्ट्रपति व राज्यपाल को ज्ञापन भेजा

फतेहपुर। सवर्ण वर्ग के लोगों ने राजपूत व ब्राह्मण सभा के बैनर तले नायब तहसीलदार फतेहपुर प्रेम शर्मा के माध्यम से राष्ट्रपति व हिमाचल के राज्यपाल को ज्ञापन भेजा। मांग की कि एससी/एसटी एक्ट 1989 पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को यथावत रखने के निर्देश सरकारों को दें।

ज्ञापन सौंपने से पूर्व सेवानिवृत पुलिस अधिकारी शक्ति पठानिया ने राम लीला मैदान फतेहपुर में लोगों को जानकारी देते बताया कि उपरोक्त एक्ट में सुप्रीम कोर्ट ने हस्तक्षेप करते हुए पूरी जांच होने तक गिरफ्तारी न करने के आदेश दिए थे। लेकिन, केंद्र के दोनों सदनों ने ध्वनिमत से उपरोक्त एक्ट पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पलटते हुए यथावत रखने का अध्यादेश पारित कर दिया, जोकि सवर्ण वर्ग के लोगों के मौलिक अधिकारों का सीधा-सीधा हनन है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है