Expand

पुनर्नवा निकालेगी शरीर की गंदगी को बाहर 

Punarnava health benefits

पुनर्नवा निकालेगी शरीर की गंदगी को बाहर 

- Advertisement -

जड़ी-बूटियों में पुनर्नवा का नाम महत्वपूर्ण है। इसके औषधीयगुण चमत्कारिक हैं। यह शरीर की गंदगी को बाहर निकालने का असाधारण कार्य करती है। इसी से रक्तचाप, शोथ, भूख बढ़ाने आदि में पुनर्नवा बहुत ही उपयोगी सिद्व हुई है। इसे थोड़ी-थोड़ी मात्रा में दिन में कई बार दिया जाये तो पुरानी खांसी तथा कफ दूर करने में भी पुनर्नवा रामबाण की तरह काम करती है।  वनौषधियों में पुनर्नवा का रोग निवारण में अति महत्वपूर्ण स्थान है। उन्नीसवीं शताब्दी तक यह विशुद्ध जड़ी-बूटी थी और भारतीय वैद्यों द्वारा प्रयुक्त की जाती थी। पहली बार जब इसका प्रयोग कुछ असाध्य अंग्रेज रोगियों पर किया गया और उसके चमत्कारिक परिणाम सामने आए। इसके बाद इस पर अनेक वैज्ञानिक प्रयोग किए गये तथा इसमें कई अदभुत रसायन पाए गए। इसके हरे पौधे में पोटैशियम नाइट्रेट और हाइड्रोक्लोराइड प्रचुर मात्रा में पाये जाते हैं। यही रोग निवारण के मुख्य कारक माने गए हैं।
  • पुनर्नवा (श्वेत) हृदय को भी बल प्रदान करने वाली औषधि मानी जाती है। निघंटु रत्नाकर ने इसे कफ खांसी, बवासीर, शरीर में सूजन, पाण्डुरोग, बिच्छू, बरैया आदि का विष दूर करने आदि में अत्यधिक उपयोगी माना है। इसे उदर रोगों में भी लाभदायक बताया गया है।
  • इसकी जड़ पीस कर शहद में मिलाकर लगाने से आंखों की लालिमा मिटाने में लाभ होता है। भंगरे के रस में मिलाकर लगाने से आंखों की खुजली तक मिट जाती है।
  • पुनर्नवा उच्च रक्त चाप, शरीर का मोटापा दूर करने तथा पेट आदि की बीमारियों में बहुत लाभदायक है। जिनका पेट साफ नहीं होता वे भी पुनर्नवा का सेवन कर सकते हैं।

  • फेफड़ों में पानी भर गया हो उसमें भी पुनर्नवा अत्यधिक लाभदायक सिद्व हुई है।
  • सौंठ, चिरायता तथा कुटकी मिलाकर यदि पुनर्नवा का क्वाथ प्रातः तथा सांयकाल लिया जाये तो उससे हृदय रोग में असाधरण लाभ होता है।
  • शरीर में मोटापा या शोथ हो तब इसके साथ काली मिर्च मिलाकर क्वाथ बनाना चाहिए।
  • श्वास नली में सूजन हो तो यही प्रयोग चंदन के साथ करने का निर्देश है। कफ और दमे में भी यही प्रयोग लाभ देता है। कुछ वैद्य पुनर्नवा का शाक खाने की सलाह देते हैं।
  • यह हृदय तथा अजीर्ण रोगों में बडा लाभदायक होता है। जिन्हें उल्टी आने की शिकायत हो उन्हें भी पुनर्नवा का कुछ दिन तक सेवन करना चाहिए।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है