Covid-19 Update

2, 43, 365
मामले (हिमाचल)
2, 28, 454
मरीज ठीक हुए
3874*
मौत
37,380,253
मामले (भारत)
328,826,023
मामले (दुनिया)

पंजाब की शूटर खुशसीरत ने गोली मारकर की आत्महत्या, परफॉर्म ना करने से तनाव में थी

पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

पंजाब की शूटर खुशसीरत ने गोली मारकर की आत्महत्या, परफॉर्म ना करने से तनाव में थी

- Advertisement -

 

पंजाब की नेशनल शूटर खुशसीरत कौर ने अपनी ही शूटिंग गन से खुद को गोली मार दी। उसकी मौत हो गई है। 19 वर्षीय खुशसीरत कुछ समय पहले इजिप्ट में हुए शूटिंग वर्ल्ड कप में हिस्सा लेने गई थी। वहां पर वह मेडल नहीं हासिल कर पाई। इसके अलावा पटियाला में भी नेशनल शूटिंग चैंपियनशिप में उसे निराशा हुई। इसके कारण वह मानसिक तनाव में थी। बताया जा रहा है कि इसी परेशानी के कारण उसने देर रात अपनी ही शूटिंग गन से कनपटी पर गोली मार ली। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

यह भी पढ़ें:हिमाचल: रेलवे ट्रैक पर मिले शव मामले में बड़ा खुलासा, गला रेत की थी बुजुर्ग की हत्या

हॉकी प्रशिक्षक हरबंस सिंह ने बताया कि खुशसीरत ने पिछले नेशनल गेम्स में शूटिंग में 11 मेडल हासिल किए थे। इसके बाद उसका चयन इजिप्ट में हुए वर्ल्ड कप में हुआ था, लेकिन वहां खुशसीरत कोई मेडल हासिल न कर सकी। इससे वह निराश हो गई। पटियाला में हुई नेशनल शूटिंग चैंपियनशिप में भी उसे निराशा हाथ लगी। खुशसीरत जब से पटियाला में हुई प्रतियोगिता में हिस्सा लेकर लौटी थी, तब से वह गुमसुम सी थी। उसे इस बात का तनाव था कि वह मेडल नहीं जीत पा रही। पारिवारिक सदस्यों ने कई बार उसे समझाया, लेकिन उसका तनाव कम नहीं हुआ। इसी तनाव में उसने देर रात अपनी शूटिंग गन से खुद को गोली मार दी। थाना प्रमुख हरजिंदर सिंह ने कहा कि गुरुवार सुबह उनको सूचना मिली थी कि एक लड़की खुशसीरतकौर पुत्री जसविंदर सिंह ने अपने आप को गोली मार ली है। इसके बाद वह मौके पर पहुंचे। शव को पोस्टमार्टम के लिए मेडिकल अस्पताल भेज दिया गया है। मामले में परिवार के बयान भी लिए जा रहे हैं।

खुशसीरत अपनी खेल को लेकर काफी गंभीर रहती थी, शायद यही उसके मौत का कारण भी बनी। कोरोना काल से पहले की बात करें तो खुशसीरत ने एक ही साल में 11 गोल्ड मेडल राष्ट्रीय स्तर पर जीतकर इतिहास रचा था। खुशसीरत सिर्फ निशानेबाजी ही नहीं, बल्कि तैराकी में भी दक्ष थी। तैराकी में भी खुशसीरत ने राष्ट्रीय स्तर पर गोल्ड मेडल जीता था। लेकिन खेल की वजह से वह अपनी जान ले लेगी, परिजनों ने सोचा नहीं थी।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

 

 

 

 

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है