Covid-19 Update

2,27,483
मामले (हिमाचल)
2,22,831
मरीज ठीक हुए
3,835
मौत
34,624,360
मामले (भारत)
265,482,381
मामले (दुनिया)

राजपरिवार के लिए बनी 92 साल पुरानी गुड़िया की नीलामी, 40 लाख तक बिक सकती है डॉल

महारानी एलिजाबेथ द्वितीय डॉल को जर्मनी की कंपनी ने किया था तैयार

राजपरिवार के लिए बनी 92 साल पुरानी गुड़िया की नीलामी, 40 लाख तक बिक सकती है डॉल

- Advertisement -

देश-दुनिया में अकसर राजा-महाराजाओं की चीजों की नीलामी की जाती है। ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ (Queen Elizabeth) द्वितीय के लिए 1929 में बनाई गई गुड़िया की भी अब जल्द नीलामी होने वाली है। यह गुड़िया 40 लाख रुपये तक बिक सकती है। इस गुड़िया का नाम क्‍वीन एलिजाबेथ द्वितीय डॉल रखा गया था। महारानी एलिजाबेथ की तरह दिखने वाली डॉल काफी चर्चा में रही थी।

ये भी पढ़ें- पोप के जूते पर होता है सोने का क्रास, ये पोशाक पहनकर नहीं करते हैं धार्मिक कार्य

यह गुड़िया तैयार होने के 92 साल बाद नीलाम की जा रही है। इस गुड़िया को जर्मनी की एक कंपनी ने तैयार किया था। इस गुड़िया को महारानी एलिजाबेथ की तरह हुबहु तैयार किया गया था। जिसके चलते इसका नाम एलिजाबेथ द्वितीय डॉल रखा गया। इस डॉल की आंखें महारानी की तरह नीली तैयार की गई और बाल गोल्डन तैयार किए गए। इस डॉल को महारानी की तरह क कपड़े पहनाए गए थे। इस डॉल को पिंक ड्रेस के साथ ऑयल क्लॉथ शूज और मोजे भी पहनाए गए।

राजपरिवार ने इस डॉल की अन्य कॉपी बनाने से इंकार कर दिया था। महारानी एलिजाबेथ जैसी केवल एक ही डॉल है, जिसकी अब जल्द ही नीलामी होने वाली है।महारानी एलिजाबेथ द्वितीय 3 साल की उम्र बिल्कुल इस डॉल जैसी दिखती थी, लेकिन महारानी की मां का कहना था कि इस डॉल को कुछ ज्यादा ही गोल मटोल बना दिया गया है इसलिए ऐसी और डॉल तैयार करने की अनुमति नहीं दी गई। महारानी एलिजाबेथ द्वितीय डॉल समेत ऐसे कई खिलौनों के लिए नॉटिंग्घम की रहने वाले बैटी फॉक्‍स ने कपड़े तैयार किए थे। राजपरिवार की नाराजगी के बाद यह डॉल इन्‍हीं के पास थी।

जानकारी के अनुसार, बैटी पिछले 60 साल से ऐसी डॉल्‍स को इकट्ठा करने में जुटी थीं। इनकी कलेक्‍शन में 19वीं शताब्‍दी से लेकर 1960 तक करीब 500 खास डॉल रही हैं। इन कलेक्‍शन को उन्‍होंने स्‍पेशल शोकेस में रखवाया था। इनकी कलेक्‍शन में सबसे खास क्‍वीन एलिजाबेथ डॉल है। यह काफी दुर्लभ डॉल है, नीलामी में इसकी खास जगह है, लेकिन 2019 में इनकी मौत के बाद अब इनके कलेक्‍शन की नीलामी होने जा रही है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है