Covid-19 Update

2, 85, 012
मामले (हिमाचल)
2, 80, 818
मरीज ठीक हुए
4117*
मौत
43,140,068
मामले (भारत)
528,280,106
मामले (दुनिया)

दुनिया का एक द्वीप, जहां सिर्फ खरगोश ही खरगोश और कोई नहीं रहता

जापान का ओकुनोशिमा द्वीप को दुनियाभर में रैबिट आइलैंड से जाना जाता है

दुनिया का एक द्वीप, जहां सिर्फ खरगोश ही खरगोश और कोई नहीं रहता

- Advertisement -

दुनिया (World) में कुछ ऐसे द्वीप भी हैं जो अपने आप में अनोखे और बेहद खूबसूरत हैं। ये द्वीप अपनी इन्हीं खूबियों के कारण पर्यटकों (Tourist) को भी अपनी और आकर्षित करते हैं। इसी कड़ी में आज हम एक ऐसे अनोखे द्वीप के बारे में बात करेंगे, जहां इंसान नहीं रहते हैं। इस द्वीप पर सिर्फ खरगोशों  (Rabbit) का बसेरा है। यही कारण है कि इस द्वीप को रैबिट आइलैंड (Rabbit Island) के नाम से जाना जाता है। जापान का ओकुनोशिमा द्वीप वैसे तो बहुत खूबसूरत है और यहां लोग घूमने के लिए भी आते हैं। आइए जानते हैंए इस द्वीप के बारे में और भी खास बातें…

रासायनिक हथियारों की टेस्टिंग के लिए छोड़े गए थे खरगोश

एक मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, साल 1929 और 1945 के बीच दुनिया से छुपाकर जापान (Japan) ने एक जहरीली गैस बनाई थी। ये जहरीली गैस करीब 6 हजार टन की मात्रा में बनाई गई थी। गैस के प्रभाव को टेस्ट करने के लिए इस द्वीप पर खरगोशों को लाया गया था। समय बीतने के साथ ही यहां खरगोशों की जनसंख्या में वृद्धि होने लगी। आज स्थिति ये है कि इस द्वीप पर हजारों की संख्या में खरगोश हैं।

यह भी पढ़ें: वक्त के साथ ऐसे बदल जाती हैं चीजें, तस्वीरों में देखें ये खूबसूरत बदलाव

इस द्वीप पर खरगोशों की इतनी ज्यादा संख्या होने की एक और वजह का पता चला है। द्वितीय विश्व युद्ध (Second World War) के दौरान रासायनिक हथियारों की प्रभावशीलता का परीक्षण करने के लिए इन खरगोशों को इस द्वीप पर लाया गया और छोड़ दिया गया। हालांकि, जापान सरकार का कहना है कि उन खरगोशों को उसी समय नष्ट कर दिया गया था। सरकार ये भी कहती है कि जो खरगोश अभी है उनका उस समय के खरगोशों से कोई लेना.देना नहीं है।

इस द्वीप पर कुत्ते-बिल्ली लाने पर बैन

एक अन्य कहानी के अनुसार, साल 1971 में कुछ स्कूली बच्चे (School Students) यहां पिकनिक मनाने आए थे। ये बच्चे अपने साथ 8 खरगोश लेकर आए थे। आज इन्हीं खरगोशों की संख्या बढ़कर हजारों में हो चुकी है। इस द्वीप पर इतने खरगोशों की संख्या बढ़ने की मुख्य वजह इनका शिकार न होना भी बताया जाता है। इस द्वीप पर कुत्ते और बिल्ली (Cats) जैसे जानवर नहीं पाए जाते हैं जो इनका शिकार करते हैं। इस आइलैंड पर कुत्ते-बिल्ली लाना प्रतिबंधित है। ये द्वीप अब रैबिट आइलैंड के नाम से जाना जाता है। इस द्वीप पर आने वाले पर्यटकों के लिए होटल और रेस्टोरेंट भी खुल गए हैं।

यह भी पढ़ें: बर्फ से ढके ये हिल स्टेशन स्वर्ग से कम नहीं, इनकी खूबसूरती देख आप भी कहेंगे वाह!

पर्यटकों के लिए बहुत कुछ

अब इस आइलैंड पर इतने खरगोशों की संख्या का कोई सटीक प्रमाण तो नहीं है। फिर भी आइलैंड पर खरगोशों को देखने के लिए पर्यटक हर रोज यहां आते हैं। इस आइलैंड पर एक गोल्फकोर्स भी बन चुका है। घूमने आने वाले पर्यटकों के लिए राइड का भी इंतजाम इस आइलैंड पर किया गया हैए जिससे पर्यटक इस द्वीप पर खूबसूरत नजारों का आनंद ले सकें। साल 1988 में यहां एक संग्रहालय भी खोला गया, ताकि अधिक से अधिक लोगों को जहरीली गैस के बारे में बताया जा सके। संग्रहालय में गैस के प्रभाव को तस्वीरों के माध्यम से दिखाया गया है।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है