Covid-19 Update

2,16,430
मामले (हिमाचल)
2,11,215
मरीज ठीक हुए
3,631
मौत
33,381,728
मामले (भारत)
227,957,773
मामले (दुनिया)

‘जंग’ की तैयारी में जुटे हैं Rafale: हिमाचल की बर्फीली वादियों में कर रहे रात्रि-अभ्यास

‘जंग’ की तैयारी में जुटे हैं Rafale: हिमाचल की बर्फीली वादियों में कर रहे रात्रि-अभ्यास

- Advertisement -

शिमला। अगर आपका ये सोचना है कि फ्रांस से लाए जाने के बाद 5 भारतीय राफेल (Rafale) लड़ाकू विमानों को एयरबेस पर सजा के रख दिया गया है, तो यह बिलकुल ही गलत है। दरअसल, ये पांचों विमान एलएसी से दूरी बनाकर हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) की बर्फीली वादियों में रात के वक्‍त अभ्‍यास कर रहे हैं। एलएसी (LAC) से दूरी बनाने का कारण यह है कि अक्‍साई चिन में तैनात पीपुल्‍स लिबरेशन आर्मी (PLA) के रडार इनके फ्रीक्‍वेंसी सिग्‍नेचर्स की पहचान ना कर सकें। हिमाचल में अभ्यास करने कारण यह है कि यहां पर सीखा गया युद्ध कौशल पूर्वी लद्दाख में चीन और कश्‍मीर में पाकिस्‍तान से युद्ध के हालत बनने पर काम आएगा। दरअसल, हिमाचल में स्थित पहाड़ियों की चोटियों की टेरेन वहां से काफी हद तक मिलती-जुलती हैं।

यह भी पढ़ें: पाक की ओर से हो रही घुसपैठ को नाकाम करेंगी भारतीय महिला सैनिक, LOC पर दी तैनाती

बतौर रिपोर्ट्स, अगर लद्दाख सेक्‍टर में चीन से लगी सीमा पर हालात बिगड़ते हैं तो राफेल अपनी Meteor और SCALP मिसाइलों के साथ हमला करने को एकदम तैयार रहेंगे। बता दें कि ये राफेल भारतीय वायुसेना की गोल्‍डन एरोज स्‍क्‍वाड्रन को सौंपे गए हैं। भारत में जो राफेल आए हैं, उनके साथ Meteor बियांड विजुअल रेंज एयर-टू-एयर मिसाइल, MICA मल्‍टी मिशन एयर-टू-एयर मिसाइल और SCALP डीप-स्‍ट्राइक क्रूज मिसाइल्‍स लगी हैं। इससे भारतीय वायुसेना के जांबाजों को हवा और जमीन पर टारगेट्स को उड़ाने की जबर्दस्‍त क्षमता हासिल हो चुकी है। Meteor मिसाइलें नो-एस्‍केप जोन के साथ आती हैं यानी इनसे बचा नहीं जा सकता। यह फिलहाल मौजूद मीडियम रेंज की एयर-टू-एयर मिसाइलों से तीन गुना ज्‍यादा ताकतवर हैं। इस मिसाइल सिस्‍टम के साथ एक खास रॉकेट मोटर लगा है जो इसे 120 किलोमीटर की रेंज देता है।

राफेल की 10 प्रमुख ख़ूबियां; यहां जानें

  1. स्पीड के मामले में इस राफेल दुश्मन के छक्के छुड़ा सकता है। इसकी अधिकतम स्पीड 2222 किलोमीटर प्रति घंटे की है।
  2. राफेल परमाणु हथियार ले जाने मे सक्षम है, भारतीय वायुसेना के हिसाब से फाइटर जेट में कई बदलाव किए गए हैं।
  3. राफेल की मारक क्षमता की बात करें तो ये 3700 किलोमीटर तक दुश्मन के किले को भेद सकता है।
  4. 24,500 किलोग्राम तक का भार उठाकर ले जाने में राफेल सक्षम है, ये 60 घंटे अतिरिक्त उड़ान भरने की ताकत रखता है।
  5. ब्रह्मोस जैसी 6 सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल्स को ले जाने की राफेल ताकत रखता है।
  6. 3 लेडर गाइडेड बम समेत 6 हवा से जमीन पर मार करने वाली मिसाइल भी राफेल की क्षमता है।
  7. 17,000 KG फ्यूल राफेल ले जा सकता है, ये अत्याधुनिक हथियारों से लैस फाइटर जैट है।
  8. राफेल हवा से जमीन पर मार वाली स्कैल्प मिसाइल से लैस है जिसकी रेंज 150 किमी की बियोंड विजुअल है। जबकि स्कैल्प मिसाइल की रेंज 300 किलोमीटर है
  9. 1 मिनट के भीतर ही 60,000 फिट की ऊंचाई पर जाने में सक्षम राफेल 4.5 जेनरेशन के ट्विन इंजन वाला है।
  10. हवा में फ्यूल भरने के बाद लगातार दस घंटे तक राफेल उड़ान भरने की क्षमता रखता है। इसके साथ ही ये एयरबेस के साथ एयरकाफ्ट कैरियर से भी उड़ान भरने में सक्षम है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whatsapp Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है