Expand

महेश्वर को नसीहतः हम तो कभी पालकी में नहीं बैठे

महेश्वर को नसीहतः हम तो कभी पालकी में नहीं बैठे

- Advertisement -

कुल्लू। देवभूमि कुल्लू आज दिनभर राजनीतिक तौर पर तपती रही। कारण सीधा था सीएम वीरभद्र सिंह जिला के दौरे पर हैं। निशाने पर नए-नए बीजेपी नेता बने महेश्वर सिंह थे। वह भी उनके अनुज आयुर्वेद मंत्री कर्ण सिंह के सामने। मामला वहीं, भगवान रघुनाथ मंदिर का। सीएम ने भी बंजार में उमड़ी भीड़ को ध्यान में रखते हुए छेड़ दी तान। शुरुआत कुछ ऐसी रही कि हम सभी कुल्लू राजघराने के शुभचिंतक हैं, लेकिन न्यास का गठन घाटी के लोगों के समग्र हित को ध्यान में रखते हुए किया गया है। इसके बाद उन्होंने जो लपेटना शुरू किया तो फिर पीछे मुड़कर कहां देखा।

vir-mswrमहेश्वर सिंह को सलाह देते हुए कहा कि वह स्वयं कभी भी आम आदमी के कंधे पर पालकियों में नहीं बैठे और कूल्लू के राज घराने को भी इसे समझना चाहिए। समय बदल चुका है और हमें बदलते समय का सम्मान करना चाहिए। रघुनाथ मंदिर न्यास का गठन इसलिए किया गया है, ताकि मंदिर का उपयुक्त ऑडिट किया जा सके तथा इसकी सुरक्षा एवं उचित रख रखाव सुनिश्चित बनाया जा सके। उन्होंने कहा कि भगवान रघुनाथ की मूर्ति को वर्तमान में एक छोटे कक्ष में रखा गया है और उनकी इच्छा है कि भगवान रघुनाथ का एक भव्य मंदिर बनना चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार की मंदिर के अधिग्रहण की कोई मंशा नहीं है, लेकिन सरकार हमेशा ही मंदिर की मरम्मत एवं रख रखाव पर पर्याप्त धनराशि खर्च करने के लिए तत्पर है। वीरभद्र सिंह ने कहा कि सराहन स्थित भीमाकाली मंदिर के वह स्वयं न्यासी और यह उनकी निजी संपत्ति नहीं है। उन्होंने कहा कि महेश्वर सिंह को भी न्यास बनाने के महत्व को समझना चाहिए। सीएम जब यह सब बोल रहे थे तो वहां महेश्वर सिंह के छोटे भाई कर्ण सिंह बराबर मौजूद थे।

क्या है रघुनाथ मंदिर अधिग्रहण मामला

भगवान रघुनाथ मंदिर को अधिग्रहण करने के लिए कुछ कांग्रेसी नेताओं ने पिछले 15-20 वर्षों से सरकार पर दबाव बनाया हुआ है। बीते चुनावों में सीएम वीरभद्र सिंह की सरकार आई और महेश्वर सिंह ने बीजेपी से बगावत कर हिलोपा खड़ी की थी, जिसका सीधा फायदा कांग्रेस को हुआ और बीजेपी को नुकसान। सरकार बनने के बाद भी महेश्वर सिंह ने सीएम वीरभद्र सिंह का साढ़े तीन वर्षों तक साथ दिया, लेकिन जैसे ही महेश्वर सिंह की बीजेपी में घर वापसी तय हो गई थी, तो प्रदेश सरकार ने 26 जुलाई को कैबिनेट में बिल पास कर कुल्लू के अधिष्ठाता देवता भगवान रघुनाथ के मंदिर को अधिग्रहण करने की मंजूरी दी। इसके बाद कुल्लू के देव समाज में इसका व्यापक विरोध हुआ और कई धरने-प्रदर्शन हुए। उपायुक्त कुल्लू इसलिए मंदिर की जमीन पर कब्जा नहीं जमा पाए कि जिस भूमि पर रघुनाथ मंदिर बना हुआ है। वह महेश्वर सिंह व उनकी निजी भूमि है और इसको अधिग्रहित करने के लिए उन्हें औपचारिकता से गुजरना पड़ना था। हालांकि, निजी भूमि के बाहर जिला प्रशासन ने पूरी तरह से मंदिर पर कब्जा कर लिया था। उधर, 2 अगस्त को हाईकोर्ट ने महेश्वर सिंह की याचिका मंजूर कर ली थी और अधिग्रहण पर अगली सुनवाई तक रोक लगा दी थी, जिस कारण अभी तक यह मामला लटका हुआ है। लिहाजा, सीएम वीरभद्र सिंह के निशाने पर आज डीसी कुल्लू आ गए।

रघुनाथ मंदिर प्रकरणः डीसी व अन्य पर भड़क गए सीएम

बंजार। कुल्लू के भगवान रघुनाथ मंदिर अधिग्रहण मामले में चल रही पेचिदगियों को लेकर सीएम वीरभद्र सिंह आज गुस्सा हो गए। बंजार में जनसभा के दौरान उनके गुस्से का शिकार सीधे-सीधे डीसी व जिला के दूसरे अधिकारी बन बैठे। भरी सभा में सीएम ने इतना तक कह दिया कि ऐसे अधिकारियों को यहां रहने का कोई अधिकार नहीं बनता, जिन्होंने सरकारी आदेशों को सही तरीके से तामील नहीं करवाया। इसके बाद माहौल एकदम से बदल गया, वहां मौजूद सभी अधिकारी सकपका गए। उन्होंने यह भी कहा कि भगवान रघुनाथ का मंदिर किसी की निजी संपत्ति नहीं है, सरकार ने इसे अधिग्रहण करने का निर्णय जनभावनाओं को देखते हुए ही लिया है। हालांकि अब यह मुद्दा कोर्ट में चला गया है, वहां से निर्णय आने पर इस पर अगली कार्रवाई होगी।

cm2याद रहे कि पिछले दिनों कुल्लू के भगवान रघुनाथ मंदिर के अधिग्रहण की अधिसूचना वीरभद्र सरकार ने जारी की थी। उसके बाद कुल्लू में बाजार बंद रहा, मंदिर के मुख्य कारदार महेश्वर सिंह इस मुद्दे को हाईकोर्ट में ले गए। अब यह मुद्दा हाईकोर्ट में विचाराधीन है। इस बीच सीएम चाह रहे थे कि जिला प्रशासन ने अधिसूचना जारी होने के बाद उतनी तेजी नहीं दिखाई अन्यथा आज स्थिति कुछ और होती। इसे लेकर ही उनका गुस्सा सातवें आसमान पर था। बीते दिनों में सीएम तीसरी मर्तबा इस तरह गुस्सा हुए हैं। राजभवन में शिक्षक दिवस पर उनका गुस्सा सातवें आसमान पर था। उसके बाद बद्दी में जनसभा के दौरान मंच से ही वह एक व्यक्ति पर गुस्सा हो गए थे। आज वह फिर अपने पर काबू ना रख सके और गुस्सा हो गए।

cm3बंजार को करोड़ों की सौगात

सीएम वीरभद्र सिंह ने बंजार को आज करोड़ों की सौगात देकर निहाल कर दिया। बंजार क्षेत्र में उमड़ी भीड़ से बार-बार आवाज आ रही थी, कर्ण सिंह जिंदाबाद, वीरभद्र सिंह सातवीं बार। इस पर गदगद वीरभद्र सिंह ने बंजार क्षेत्र के 12 स्कूलों का दर्जा बढ़ाने के साथ ही लोक निर्माण विभाग का डिवीजन, एचआरटीसी का सब डिपो व बीपीओ ब्लॉक सैंज को डीडीओ पावर देने की भी घोषणा की। इससे पहले सीएम का बंजार पहुंचने पर क्षेत्र की जनता ने जोरदार स्वागत किया।

 

 

https://youtu.be/8GwlVH48BSs

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है