×

Rahul ने PM को लिखा पत्र – मैं और कांग्रेस पार्टी के लाखों कार्यकर्ता आपके साथ खड़े

Rahul ने PM को लिखा पत्र – मैं और कांग्रेस पार्टी के लाखों कार्यकर्ता आपके साथ खड़े

- Advertisement -

नई दिल्ली। इस समय पूरा देश कोरोना वायरस के खिलाफ मिलकर लड़ाई लड़ रहा है। इस मुश्किल की घड़ी में सरकार को इस समय विपक्ष का भी पूरा सहयोग मिल रहा है। कोरोना वायरस के संकट को देखते हुए कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को एक पत्र लिखा है। पत्र में उन्होंने लिखा है कि देश इस वक्त बड़े मानवीय संकट से गुजर रहा है। ऐसे में मैं और कांग्रेस पार्टी के लाखों कार्यकर्ता आपके साथ खड़े हैं। देश में कोरोना वायरस के खिलाफ जो लड़ाई चल रही है, उसमें सरकार के एक-एक कदम में हम सहयोग कर रहे हैं। कोविड-19 वायरस के तेजी से प्रसार को रोकने के लिए दुनिया को तत्काल कदम उठाने पर मजबूर होना पड़ा है और भारत वर्तमान में तीन सप्ताह के लॉकडाउन में है। मुझे संदेह है कि सरकार अंततः इसे और भी आगे बढ़ाएगी।


राहुल गांधी ने लिखा, हमारे लिए यह समझना महत्वपूर्ण है कि भारत की परिस्थितियां कुछ अलग हैं। हमें पूर्ण लॉकडाउन रणनीति (Full lockdown strategy) का पालन करने वाले अन्य बड़े देशों की तुलना में अलग-अलग कदम उठाने होंगे। भारत में वैसे गरीब लोगों की संख्या काफी अधिक है जो दैनिक आय पर निर्भर हैं। ऐसा देखते हुए हमारे लिए सभी आर्थिक गतिविधियों को एकतरफा बंद करना बहुत बड़ी चुनौती है। इस पूर्ण आर्थिक बंद के कारण कोविड-19 वायरस से होने वाली मौतों की संख्या और भी बढ़ जाएगी। यह महत्वपूर्ण है कि सरकार इस मुश्किल परिस्थिति के साथ आम लोगों की भी परेशानी समझे। हमारी प्राथमिकता यह होनी चाहिए कि बुजुर्गों को इस वायरस के प्रकोप से बचाने के लिए उन्हें कैसे सुरक्षा दी जाए और आइसोलेट कैसे किया जाए। इसके साथ ही युवा वर्ग को यह संदेश दिया जाए कि उनका बुजुर्ग लोगों के नजदीक जाना कितना खतरनाक हो सकता है।

राहुल गांधी ने लिखा, देश के लाखों बुजुर्ग गांवों में रहते हैं। देश में पूर्ण बंदी से लाखों बेरोजगार युवा भी गांव की ओर लौटेंगे। इससे उनके माता-पिता के संक्रमित होने का खतरा बढ़ जाएगा जो गांवों में रहते हैं। इससे बड़े पैमाने पर लोगों की जान जा सकती है। इस विषम परिस्थिति में हमें सामाजिक सुरक्षा का पूरा ख्याल रखना चाहिए। हमें हर हाल में सुनिश्चित करना चाहिए कि कामकाजी गरीबों को सरकारी संसाधनों के माध्यम से मदद और सहारा मिल सके। यह जरूरी है कि हम उन्हें बातचीत में शामिल करें, उनके आत्मविश्वास बढ़ाएं और सही और समय पर कार्रवाई के साथ उनके हितों की रक्षा करें। इस मुश्किल परिस्थिति में हम सरकार के साथ खड़े हैं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है