Covid-19 Update

1,40,759
मामले (हिमाचल)
1,02,499
मरीज ठीक हुए
1989
मौत
23,340,938
मामले (भारत)
160,334,125
मामले (दुनिया)
×

मंडी रियासत के राजा अशोक पाल सेन का राजसी परंपराओं के साथ हुआ अंतिम संस्कार

राजाओं के पारंपरिक शमशानघाट ब्यास सुकेती संगम पर हुए पंचतत्व में विलीनए बेटे ने दी मुखाग्नि

मंडी रियासत के राजा अशोक पाल सेन का राजसी परंपराओं के साथ हुआ अंतिम संस्कार

- Advertisement -

मंडी। हिमाचल की मंडी रियासत के राजा अशोक पाल सेन का अंतिम संस्कार (Cremated) बुधवार को पूरी राजसी परंपराओं (Royal Tradition) के साथ मंडी (Mandi) में राजाओं के पारंपरिक शमशानघाट ब्यास सुकेती के संगम स्थल पर प्राचीन पंचवक्तर मंदिर के पास किया गया। उनके इकलौते बेटे ओमेश्वर सिंह ने मुखाग्नि देकर परंपरा निभाई। इससे पहले राजमहल के साथ लगते भवानी निवास से उनकी देह को फूलों से सजी अर्थी से ले जाया गया। इसे मंडी शहर के ऐतिहासिक चौहाटा बाजार से बाबा भूतनाथ मंदिर के सामने ले जाकर माथा टेका गया और वहां से मोती बाजार समखेतर से वापस बालकरूपी बाजार से चौहाटा रास्ते से बंगला मुहल्ला होकर पंचवक्तर तक ले जाया गया। यहां राजसी परंपराओं के अनुसार उनका अंतिम संस्कार किया गया। कुल्लू के राजा एवं पूर्व सांसद महेश्वर सिंह (Former MP Maheshwar Singh) भी अंतिम यात्रा में शामिल हुए।


यह भी पढ़ें: मंडी रियासत के अंतिम राजा अशोक पाल सेन का निधन, पूर्व सांसद महेश्वर सिंह के थे बहनोई

 

 

बता दें कि अशोक पाल सेन महेश्वर सिंह के बेहनोई थे। उन्होंने अपने बेहनोई के निधन पर शोक व्यक्त किया और उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की। इस अंतिम यात्रा में सरकार व प्रशासन की ओर से डीसी मंडी (DC Mandi) ऋगवेद ठाकुर व अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक आशीष शर्मा भी शामिल हुए। उन्होंने शव पर पुष्प चक्र भी अर्पित किए। मंडी सदर के विधायक अनिल शर्मा, पूर्व मंत्री ठाकुर कौल सिंह, पूर्व सांसद व अशोक पाल सेन के साले महेश्वर सिंह, व्यापार मंडल के प्रधान राजेश महेंदू्र, महामंत्री प्रशांत बहल, ओल्ड स्टूडेंट एसोसिएशन के प्रधान अनिल शर्मा छूछू, पूर्व पार्षदगण समेत दर्जनों सामाजिक, धार्मिक व राजनीतिक संगठनों के प्रतिनिधि इस अंतिम यात्रा में शामिल हुए। इससे पहले भवानी निवास में परंपरा के अनुसार ओमेश्वर पाल सिंह को तिलक लगाया गया जो उन्हें अगले राजा की विरासत के रूप में एक प्रतीक चिन्ह माना जाता है। उनका विधिवत गद्दीनशीन कुछ महीनों के बाद तारीख तय करके होगा।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है