Covid-19 Update

58,543
मामले (हिमाचल)
57,287
मरीज ठीक हुए
982
मौत
11,079,094
मामले (भारत)
113,988,846
मामले (दुनिया)

एससी/एसटी एक्टः नूरपुर, फतेहपुर, धमेटा, राजा का तालाब व रैहन बाजार रहे बंद

एससी/एसटी एक्टः नूरपुर, फतेहपुर, धमेटा, राजा का तालाब व रैहन बाजार रहे बंद

- Advertisement -

नूरपुर। एससी/एसटी एक्ट के विरोध में सवर्ण समाज अनारक्षित मंच के हिमाचल बंद के आह्वान पर आज नूरपुर, राजा का तालाब व रैहन बाजार बंद रहे। नूरपुर सवर्ण समाज मंच ने राष्ट्रपति, पीएम को उपमंडल अधिकारी के माध्यम से ज्ञापन भी भेजा। नूरपुर शहर में आक्रोश रैली निकाली गई व केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

धरना-प्रदर्शन में लोगों ने बढ़-चढ़ कर भाग लिया। इस दौरान केंद्र सरकार से मांग की गई कि जल्द ही एससी, एसटी के नए कानून को सुप्रीम कोर्ट के माध्यम से निरस्त किया जाए। सवर्ण समाज संयुक्त मंच पर कर्नल नरेंद्र पठानिया, डॉ. रमेश कालिया, अशोक शर्मा, राजपूत सभा केजीएस पठानिया, ब्राह्मण सभा के नरेश शर्मा व महाजन सभा के सदस्यों ने कहा कि सवर्ण समाज पहले ही आरक्षण का दंश झेल रहा है।

ऊपर से केंद्र सरकार ने उपरोक्त काले कानून को थोप कर न केवल समस्त हिंदू समाज को बांटने की कोशिश की है, बल्कि सामाजिक सौहार्द को बिगाड़ने का भी काम किया है। एसस, एसटी के नए कानून को लागू करने के विरोध में आज हिमाचल बंद किया गया है, जिसमें सभी व्यापारी वर्ग का सहयोग मिला है।

बाइक रैली निकाली

फतेहपुर। मैन फतेहपुर व धमेटा में बाजार भी बंद रहे। काले झंडे लेकर रोष रैली भी निकाली गई। गाड़ियों व बाइक निकाली रैली रैहन बाजार से होते हुए राजा के तलाब फिर राजा के तलाब से रैहन होते हुए फतेहपुर पहुंची। सवर्ण समुदाय के लोगों ने इस दौरान केंद्र सरकार को चेताया कि अगर जल्द एससी,एसटी के नए कानून को सुप्रीम कोर्ट के माध्यम से निरस्त नहीं किया तो आने वाले चुनाव में सरकार को गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे। इस मौका पर उपेंद्र चंबियाल  कहा कि जातिवाद के साथ काला कानून को खत्म करने की प्रतिज्ञा लेनी होगी। वहीं, राजपूत सभा के सदस्य राघव पठानियां ने कहा कि एससी/एसटी के नए कानून को लागू करने के विरोध में आज हिमाचल बंद किया गया है, जिसमें सभी व्यापारी वर्ग का सहयोग मिला है। उन्होंने कहा कि आज सवर्ण वर्ग की दुर्गति हो रही है। उन्होंने ने कहा कि वोटों की राजनीति के लिए केन्द्र सरकार लगी है, जिसे सहन नहीं किया जाएगा।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है