Covid-19 Update

58,607
मामले (हिमाचल)
57,331
मरीज ठीक हुए
982
मौत
11,096,731
मामले (भारत)
114,379,825
मामले (दुनिया)

‘एक भाषा’ देश की एकता के लिए अच्छी लेकिन हिंदी थोपी नहीं जा सकती: रजनीकांत

‘एक भाषा’ देश की एकता के लिए अच्छी लेकिन हिंदी थोपी नहीं जा सकती: रजनीकांत

- Advertisement -

नई दिल्ली। केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) के ‘एक भाषा’ बयान पर अभिनेता और नेता रजनीकांत (Rajinikanth) ने कहा है कि किसी भी देश की प्रगति व एकता के लिए ‘एक भाषा’ अच्छी है लेकिन दुर्भाग्यवश भारत में ‘एक भाषा’ (One Language) नहीं हो सकती। बकौल रजनीकांत, अगर हिंदी (Hindi) थोपी गई तो दक्षिण भारत के सभी राज्य और उतर भारत के कई राज्य इसे नहीं अपनाएंगे। उन्होंने कहा विशेष रूप से, यदि आप हिंदी थोपते हैं, तो तमिलनाडु ही नहीं, बल्कि कोई भी दक्षिणी राज्य इसे स्वीकार नहीं करेगा। उत्तर भारत में भी कई राज्य यह स्वीकार नहीं करेंगे।

यह भी पढ़ें :-कांग्रेस की दोगली नीति की वजह से सांप्रदायिक ताकतें मज़बूत हो रही हैं: मायावती

राजनिकांत से पहले कांग्रेस नेता राहुल गांधी, डीएमके नेता एमके स्टालिन, मक्कल नीधी मैयम के नेता कमल हासन भी अमित शाह के बयान के बाद इस मसले के विपक्ष में बयान दे चुके हैं। दरअसल, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने हिंदी दिवस के अवसर पर ट्वीट किया था, पूरे देश की एक भाषा होना अत्यंत आवश्यक है, जो विश्व में भारत की पहचान बने। उन्होंने कहा था, ‘भारत विभिन्न भाषाओं का देश है और हर भाषा का अपना महत्व है। मगर पूरे देश की एक भाषा होना अत्यंत आवश्यक है, जो विश्व में भारत की पहचान बने। आज देश को एकता की डोर में बांधने का काम अगर कोई एक भाषा कर सकती है, तो वह सर्वाधिक बोली जाने वाली हिंदी भाषा ही है।’

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें ….

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है