Covid-19 Update

3,12, 506
मामले (हिमाचल)
3, 08, 258
मरीज ठीक हुए
4190
मौत
44, 664, 810
मामले (भारत)
639,534,084
मामले (दुनिया)

जानिए कृषि कानूनों की वापसी पर राकेश टिकैत ने क्या कहा, पंजाब में क्या है इसके मायने?

संसद से रद्द नहीं होने तक वापस नहीं लौटेंगे किसान

जानिए कृषि कानूनों की वापसी पर राकेश टिकैत ने क्या कहा, पंजाब में क्या है इसके मायने?

- Advertisement -

नई दिल्ली। पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने आज तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषणा कर दी। इसके साथ ही दिल्ली बॉर्डर पर डटे आंदोलनकारी किसानों से घर लौटने की अपील भी की। उन्होंने राष्ट्र के नाम दिए गए संबोधन में सरकार की तरफ से किसानों की हित में उठाए गए काम भी गिनाए और माफी भी मांगी। इन सबके इतर भारतीय किसान यूनियन के नेता और राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत डटे हुए हैं।


उन्होंने पीएम मोदी के ऐलान के तुरंत बाद कहा कि आंदोलन तत्काल वापस नहीं होगा, हम उस दिन का इंतजार करेंगे जब कृषि कानूनों को संसद में रद्द किया जाएगा। सरकार MSP के साथ-साथ किसानों के दूसरे मुद्दों पर भी बातचीत करें।

यह भी पढ़ें: मिल गई जीत: केंद्र सरकार वापस लेगी कृषि कानून, PM बोले- आंदोलन खत्म करें किसान

तीन कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसान आंदोलन की गुरु पर्व के मौके पर जीत हुई है। पीएम नरेंद्र मोदी ने किसानों की मांग को स्वीकार करते हुए तीन कृषि कानूनों को वापस लेने का फैसला किया है। पंजाब के पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने केंद्र सरकार के इस फैसले का स्वागत किया है। अमरिंदर सिंह ने उम्मीद जताई है कि केंद्र सरकार खेती के विकास के लिए काम करना जारी रखेगी। इसके साथ ही पटियाला से लेकर दिल्ली तक के सियासी गलियारों में चर्चा का बाजार गर्म हो गया है कि आगमी विधानसभा चुनाव में कैप्टन की नई पार्टी का बीजेपी से गठजोड़ हो सकता है।

कृषि कानूनों की वापसी पर अमरिंदर सिंह ने ट्वीट कर पीएम मोदी को शुक्रिया कहा। पूर्व सीएम ने लिखा, ”नरेंद्र मोदी जी किसानों की मांग स्वीकारने और तीन कृषि कानूनों को रद्द करने के लिए शुक्रिया। गुरु नानक जंयती के मौके पर यह अच्छा फैसला लिया गया है. मुझे पूरी उम्मीद है कि केंद्र सरकार किसानों के लिए विकास करने का काम जारी रखेगी।”

बता दें कि कैप्टन अमरिंदर सिंह किसान आंदोलन की शुरुआत से ही इसके समर्थन में खड़े रहे हैं। अमरिंदर सिंह ने तीन कृषि कानूनों को रद्द करवाने के लिए कई बार पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की है। हाल ही में कैप्टन अमरिंदर सिंह ने तीन कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग दोहराई थी और कहा था कि अगर यह आंदोलन चलता रहा तो पंजाब में अशांति आ सकती है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

 

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




×
सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है