भगवान श्रीकृष्ण को करने पड़े थे 16 हजार विवाह, जानें कौन-कौन थीं रानियां

18 अगस्त को मनाया जाएगा जन्माष्टमी का पर्व

भगवान श्रीकृष्ण को करने पड़े थे 16 हजार विवाह, जानें कौन-कौन थीं रानियां

- Advertisement -

बस कुछ दिनों में भगवान श्री कृष्ण का जन्मोत्सव मनाया जाएगा। देशभर में जन्माष्टमी मनाने की तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। इस साल 18 अगस्त को जन्माष्टमी (Janmashtami) का पर्व मनाया जाएगा। भगवान श्री कृष्ण से कई कथाएं जुड़ी हुई हैं। आज हम आपको बताएंगे कि क्यों भगवान श्री कृष्ण को 16 हजार शादियां करनी पड़ी थीं।

यह भी पढ़ें- इस बार इन राशियों के लिए खास है जन्माष्टमी, मिलेंगे कई सारे लाभ

महाभारत के अनुसार, भगवान श्री कृष्ण की 16, 107 पत्नियां थीं। उनका पहला विवाह देवी रुक्मिणी से हुआ था और इसके लिए उन्होंने रुक्मिणी का हरण किया था। इसके अलावा भगवान श्री कृष्ण (Lord Krishna) की आठ पटरानियां भी थीं, जिनसे उन्होंने रुक्मिणी के बाद में शादी की थी। जाम्बवन्ती, सत्यभामा, कालिन्दी, मित्रबिन्दा, सत्या, भद्रा और लक्ष्मणा भगवान श्री कृष्ण की पटरानियां थीं।

कथाओं के अनुसार, भगवान श्रीकृष्ण भूमासुर नाम के दैत्य के अत्याचार से 16 हजार कन्याओं को बचाया और उन्हें कारावास से मुक्त करवाया। इसके बाद जब वे कन्याएं अपने घर वापस गई तो समाज-परिवार के लोगों ने उन्हें चरित्रहीन कहकर अपनाने से इनकार कर दिया। इसके बाद भगवान श्री कृष्ण ने 16 हजार रूप रखे और इन सभी कन्याओं से विवाह किया।

कथाओं के अनुसार, भगवान श्री कृष्ण की 1 लाख 61 हजार 80 पुत्र थे। दरअसल, उनकी सभी पत्नियों के 10-10 पुत्र और एक-एक पुत्री थीं। इसके मुताबिक, भगवान श्री कृष्ण की 1 लाख 61 हजार 80 पुत्र और 16 हजार 108 पुत्रियां थीं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है