×

15 April से त्रियुंड जाने के लिए करवाना होगा Registration

15 April से त्रियुंड जाने के लिए करवाना होगा Registration

- Advertisement -

धर्मशाला। अंतऱराष्ट्रीय ट्रैकिंग साइट त्रियूंड में जाने वाले पर्यटकों और ट्रैकरों को अब यहां जाने से पहले, वन विभाग के पास अपना पंजीकरण करवाना होगा। वन विभाग 15 अप्रैल से पंजीकरण की प्रक्रिया शुरू करेगा और बिना पंजीकरण यहां पहुंचने वालों को परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। इस ट्रैकिंग साइट पर बढ़ रहे हादसों से निपटने और यहां के पर्यावरण को  सुरक्षित रखने की योजना के तहत यह पंजीकरण प्रक्रिया शुरू की जाएगी।


  • वन विभाग शुरू करेगा पंजीकरण प्रक्रिया, गैर पंजीकृत पर्यटकों, ट्रैकरों को हो सकती है परेशानी
  • 15 मार्च तक पर्यटकों, ट्रैकरों से त्रियुंड नहीं जाने की अपील

गौरतलब है कि पहाड़ों पर ट्रैकिंग के शौकीनों के लिए त्रियुंड एक विशेष महत्व रखता है। पिछले कुछ समय से अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त कर चले इस पर्यटक स्थल को विकसित करने की कवायद भी सरकार और वन विभाग ने शुरू की है।

यहां काफी संख्या में पर्यटक पहुंचते हैं और इनमें से कई हादसों का शिकार भी होते हैं। इसी के चलते विभाग अब पर्यटकों और ट्रैकरों के पंजीकरण की प्रक्रिया को शुरू करने जा रहा है ताकि यह पता लग सके कि किस समय कितने लोग यहां गए हैं और कितने सही सलामत वापस भी पहुंचे हैं। डीएफओ धर्मशाला प्रवीण ठाकुर का कहना है कि त्रियुंड जाने वाले लोगों का पंजीकरण होने से कई समस्याओं का निदान हो सकेगा और इसलिए 15 अप्रैल से पंजीकरण प्रक्रिया शुरू की जा रही है। पंजीकरण नहीं करवाने वाले लोगों के खिलाफ विभाग सख्ती से निपटेगा और उन्हें कानूनी कार्रवाई का सामना भी करना पड़ सकता है।डीएफओ प्रवीण ठाकुर ने त्रियुंड जाने वाले पर्यटकों और अन्य लोगों से 15 मार्च तक इस क्षेत्र में न जाने की अपील की है। उनका कहना है कि विभाग का रेस्ट हाउस भी 15 मार्च तक बंद रखा जाएगा और किसी को भी वहां ठहरने की इजाजत नहीं दी जाएगी। यह निर्णय खराब मौसम को देखते हुए लिया गया है। ठाकुर का कहना है कि ऐसा कोई कदम नहीं उठाया जाएगा, जिससे पर्यटकों को खराब मौसम में त्रियुंड में मुसीबतों का सामना करना पड़े। गौरतलब है कि खराब मौसम के कारण त्रियुंड जाने वाले पर्यटकों की कई बार जान पर बन आई है। कई मामले ऐसे भी आए जिसमें पर्यटकों की त्रियुंड जाते पर वक्त पैर फिसलने से मौत हो गई वहीं कई लोग घायल भी हुए।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है