लिव-इन रिलेशनशिप से होती है साथी की परख, लेकिन इसके भी हैं कुछ नुकसान

लिव-इन रिलेशनशिप से होती है साथी की परख, लेकिन इसके भी हैं कुछ नुकसान

- Advertisement -

किसी भी इंसान के जीवन के सबसे बड़े फैसले में से एक है शादी। जीवन का ये फैसला बहुत सोच-समझ कर लिया जाना चाहिए इसी के ऊपर किसी भी इंसान का भविष्य (Future) टिका होता है। यदि शादी अच्छी चल जाए तो जीवन सुख से कटता है वहीं अगर साथी से अनबन रहे तो पूरा जीवन इसी तरह से दुखी होकर कटता है। पहले समय में तो लोग शादी को लेकर ज्यादा नहीं सोचा करते थे, लेकिन आज की जनरेशन (Generation) रिश्तों को लेकर किसी तरह की चूक नहीं करना चाहती।


यह भी पढ़ें :हफ्ते में इस एक दिन सबसे ज्यादा टूटते हैं रिश्ते, रिसर्च में हुआ खुलासा

कपल्स शादी से पहले एक-दूसरे को समझते और परखते हैं। इसके लिए आजकल लिव-इन रिलेशनशिप का भी चलन है। हमारे देश में लिव-इन रिलेशन को लेकर लोगों की सोच अलग-अलग है। हमारी नई पीढ़ी इसे लेकर काफी पॉजिटिव (Positive) है। लिव-इन रिलेशन का कॉन्सेप्ट भारत में काफी पहले से है, लेकिन हाल-फिलहाल ये काफी लोकप्रियता हुआ है। लिव-इन एक-दूसरे को समझने का अच्छा तरीका है लेकिन इसके फायदे और नुकसान दोनों होते हैं। आज हम इसी के बारे आपको बताने जा रहे हैं।


ये हैं फायदे

शादी से पहले लिव-इन में रहने से रिश्ते को समझने में काफी आसानी है जाती है। ऐसे आप अपने पार्टनर (Partner) को अच्छी तरह जान सकते हैं। अगर आपको लगता है कि उनके साथ नहीं निभ सकती तो ब्रेकअप करके अलग हुआ जा सकता है जो कि तलाक से बेहतर ऑप्शन है।

जब आप किसी के साथ इस तरह के रिश्ते (relation) में रहने लगते हैं तो उसके साथ घर बसाने के इरादे भी साफ झलकने लगते हैं। इससे आप एक-दूसरे को समझने भी लग जाते हैं, जिससे आपको अपने आने वाले भविष्य के बारे में भी पता हो जाता है कि आपकी शादीशुदा जिंदगी इस इंसान के साथ कैसी होने वाली है।

आजकल दोनों पार्टनर्स वर्किंग हैं ऐसे में साथ रहकर आप जिम्मेदारियों (Responsibilities) को कैसे बांटना है इसको बेहतर तरीके से समझ सकेंगे।

लिव-इन रिलेशन में कपल्स हर बात में माता-पिता को शामिल करने के बजाए मामले खुद सुलझाने की कोशिश करते हैं। यह स्टेप उनकी अंडरस्टैंडिंग (Understanding) के लिए भी बेहतर है।

जब आप अपने साथी के साथ बिना शादी किए हुए एक साथ एक ही छत के नीचे रहने लगते हैं, तो एक दूसरे के काफी नजदीक आने के बाद आपके रिश्ते और अधिक मजबूत बन जाते है जिससे आप पहले से अधिक जिम्‍मेदार हो जाते हैं।

ये हैं नुकसान

अगर कमिटमेंट (commitment) ना हो तो कोई भी एक पक्ष दूसरे को आहत और हतप्रभ छोड़ कर आसानी से आगे बढ़ जाता है। जबकि शादी में कितने भी मतभेद के बाद रिश्‍ता तोड़ने की जटिल प्रक्रिया किसी को आसानी से छोड़ कर चल देने का मौका नहीं देती।

लिव-इन रिलेशनशिप में अगर आपके बीच फिजिकल रिलेशन हो गए और शादी न हुई तो यह परेशानी की सबसे बड़ी वजह बन जाती है। खासतौर पर लड़कियों के लिए।

लिव-इन रिलेशन में साथ रह लेने के बाद आप दोनों के पास एक-दूसरे के बारे में एक्सप्लोर (Explore) करने के लिए कुछ नहीं बचता।

लिव-इन रिलेशन फेल होने के बाद लड़कियों को किसी दूसरे रिलेशन में जाने में मुश्किल का सामना करना पड़ सकता है।

लिव इन रिलेशनशिप में अक्‍सर रिश्‍ते के प्रति सम्‍मान का अभाव देखा जाता है और ये केवल प्‍लेजर (pleasure) पर आधारित संबंध बन कर रह जाता है। अपनी आर्थिक और निजी आजादी का मजा लेने में जोड़े शादी के विचार को टालते रहते हैं। उनका आपसी विश्‍वास भी अक्‍सर कम पाया जाता है।


हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए Like करें हिमाचल अभी अभी का Facebook Page…. 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

सरकार ने बदला एक एचएएस, एक को सौंपा अतिरिक्त कार्यभार

राष्ट्रपति से मिले मोदी, 353 सांसदों के समर्थनपत्र के साथ सरकार बनाने का दावा पेश 

नीरज भारती व अन्य के खिलाफ मामला दर्ज, जांच में जुटी पुलिस

स्कॉलरशिप घोटाला: सीबीआई ने शिमला पुलिस से मांगा पूरा रिकॉर्ड

जानिए-फॉरेस्ट गार्ड लिखित परीक्षा का पूरा शेड्यूल, कब भेजे जाएंगे कॉल लेटर

जयराम कैबिनेट के लिए लार टपकाए बैठे विधायकों के लिए अंदर की बात

जयराम से मिले धमाकेदार जीत करने वाले चारों, संसदीय दल की बैठक में होंगे शरीक

टैटः जानिए, किन विवरणों में कर सकते हैं शुद्धि और कैसे

जवाली बाजार में सरेआम लात-हाथ से झगड़ते दिखे पूर्व सीपीएस नीरज भारती, देखें वीडियो

किन्नौरः ट्रैकिंग पर निकले दो दल फंसे, एक ट्रैकर की मौत -एक जख्मी 

चारों सीटें गंवाकर अब अपनों के गिरेबान पकड़ने की तैयारी में कांग्रेस

Election Results : चुनाव में NOTA बना प्रत्याशियों के हार की वजह

जवाली पहुंचे नीरज भारती का ऐलानः एक मर्डर की सजा भी मौत, दस करेंगे उसकी भी वही

एक हफ्ते तक दीदार नहीं होंगे अब जयराम के, अभी-अभी छोड़ा है शिमला

पहले की पिटाई, फिर पीठ पर उसी के खून से लिख दिया "चोर"

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है