Covid-19 Update

2,18,202
मामले (हिमाचल)
2,12,736
मरीज ठीक हुए
3,650
मौत
33,650,778
मामले (भारत)
232,110,407
मामले (दुनिया)

कोविड-19 ने 3.1 करोड़ लोगों को अत्यधिक गरीबी में धकेल दिया: रिपोर्ट में हुआ खुलासा

कोविड-19 ने 3.1 करोड़ लोगों को अत्यधिक गरीबी में धकेल दिया: रिपोर्ट में हुआ खुलासा

- Advertisement -

वाशिंगटन। कोविड ने 2019 की तुलना में साल- 2020 में अतिरिक्त 3.1 करोड़ लोगों को अत्यधिक गरीबी में धकेल दिया, जिसमें दुनिया भर में महामारी के कारण होने वाली असमानताओं को उजागर किया गया है। ये जानकारी एक रिपोर्ट से सामने आई है। वार्षिक गोलकीपर रिपोर्ट, बिल गेट्स और मेलिंडा फ्रेंच गेट्स द्वारा उनकी नींव के हिस्से के रूप में सह-लेखक, संयुक्त राष्ट्र सतत विकास लक्ष्यों की प्रगति पर महामारी के प्रतिकूल प्रभाव को दर्शाती है। रिपोर्ट से पता चला है कि महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित लोग ठीक होने में सबसे धीमे होंगे।90 प्रतिशत उन्नत अर्थव्यवस्थाएं अगले वर्ष तक प्रति व्यक्ति आय के पूर्व-महामारी के स्तर को फिर से हासिल कर लेंगी, केवल एक तिहाई निम्न और मध्यम आय वाली अर्थव्यवस्थाओं के ऐसा करने की उम्मीद है।

सह-अध्यक्ष लिखते हैं, “(पिछले वर्ष) ने हमारे विश्वास को मजबूत किया है कि प्रगति संभव है लेकिन अपरिहार्य नहीं है।”उन्होंने लिखा, “अगर हम इन पिछले 18 महीनों में जो देखा है, उसका सबसे अच्छा विस्तार कर सकते हैं, तो हम अंतत: महामारी को पीछे छोड़ सकते हैं और एक बार फिर स्वास्थ्य, भूख और जलवायु परिवर्तन जैसे मूलभूत मुद्दों को संबोधित करने में प्रगति को तेज कर सकते हैं।” रिपोर्ट में वैश्विक स्तर पर महिलाओं पर महामारी के आर्थिक प्रभाव पर भी प्रकाश डाला गया है। उच्च और निम्न-आय वाले देशों में समान रूप से, वैश्विक मंदी से महिलाओं को पुरुषों की तुलना में अधिक मार झेलनी पड़ सकती है जो कि महामारी से शुरू हुई थी।

मेलिंडा फ्रेंच गेट्स ने कहा कि दुनिया के हर कोने में महिलाओं को संरचनात्मकबाधाओं का सामना करना पड़ता है, जिससे वे महामारी के प्रभावों के प्रति अधिक संवेदनशील हो जाती हैं। इंस्टीट्यूट फॉर हेल्थ मेट्रिक्स एंड इवैल्यूएशन (आईएचएमई) के एक विश्लेषण ने वैश्विक वैक्सीन कवरेज में 7 प्रतिशत अंकों की गिरावट की आशंका जताई है, जो पिछले साल कम है। रिपोर्ट में वैक्सीन असमानता के खिलाफ भी कहा गया कि इसके अलावा, कोविड -19 टीकों का तथाकथित चमत्कार दशकों के निवेश, नीतियों और साझेदारी का परिणाम था।

बिल गेट्स ने कहा कि कोविड -19 टीकों तक समान पहुंच की कमी एक सार्वजनिक स्वास्थ्य त्रासदी है। उन्होंने कहा हम बहुत वास्तविक जोखिम का सामना कर रहे हैं कि भविष्य में, धनी देश और समुदाय कोविड -19 को गरीबी की एक और बीमारी के रूप में इलाज करना शुरू कर देंगे। हम महामारी को अपने पीछे नहीं रख सकते, जब तक कि हर कोई, चाहे वे कहीं भी रहते हों, उन तक टीके की पहुंच नहीं हो।” रिपोर्ट में कम आय वाले देशों में शोधकर्ताओं और निमार्ताओं की क्षमता को मजबूत करने के लिए स्थानीय भागीदारों में निवेश का भी आह्वान किया गया है ताकि वे टीके और दवाएं तैयार कर सकें।

–आईएएनएस

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है