Covid-19 Update

2,67,577
मामले (हिमाचल)
2, 53, 840
मरीज ठीक हुए
3961*
मौत
40,622,709
मामले (भारत)
366,912,057
मामले (दुनिया)

इस गांव के लोग हैं डरे हुए, कहीं छिन ना जाए भारतीयता की पहचान

भारत की सीमा के भीतर 150 गज की दूरी तक बाड़ लगाने का काम पूरा

इस गांव के लोग हैं डरे हुए, कहीं छिन ना जाए भारतीयता की पहचान

- Advertisement -

अपने ही देश के एक गांव के लोग डरे-सहमे हुए हैं, उनका डर ये है कि कहीं उनकी भारतीयता की पहचान ना खो जाए। भारत-बांग्लादेश सीमा (Indo-Bangladesh Border) पर जीरो लाइन के पास स्थित लिंगखोंग गांव के करीब 90 निवासियों में देश के अन्य हिस्सों से कट जाने का भय है। इस जगह पर भारत की सीमा के भीतर 150 गज की दूरी तक, बाड़ लगाने का काम पूरा होने वाला है। पहचान के संकट के भय से सहमे लोग अब अपना दर्द साझा करने लगे हैं। पूर्वी खासी पर्वतीय जिले में लिंगखोंग गांव के पास, एकल बाड़ की नींव रख दी गई है, लेकिन निवासियों के विरोध के चलते इस कार्य को रोक दिया गया है। हालांकि, अधिकारी अब तक इस बात पर सहमत नहीं हुए हैं कि बाड़ नहीं लगाई जाएगी या इसे जीरो लाइन पर ही लगाया जाएगा।

यह भी पढ़ें-देखें वीडियोः कड़ाके की ठंड में इस शख्स ने लगाया नहाने के लिए गजब का जुगाड़

गांव के बुजुर्ग कहते हैं कि यह ठीक नहीं है कि बाड़ लगने के बाद हमारा गांव भारत के क्षेत्र से बाहर हो जाएगा। हम सुरक्षित महसूस नहीं कर रहे हैं। हम यहां जमाने से रह रहे हैं। सरकार को हमारी सुरक्षा और कुशलता के लिए कुछ करना चाहिए। ये अलग बात है कि बीएसएफ का एक शिविर लिंगखोंग में स्थित है। याद रहे कि मेघालय में भारत.बांग्लादेश सीमा पर करीब 80 फीसदी हिस्से में बाड़ लगाई जा चुकी है। कुछ हिस्सा बाकी है जहां पर या तो निवासियों के विरोध के कारण, बांग्लादेश के बॉर्डर गॉर्ड्स के विरोध के कारण या फिर भौगोलिक स्थिति की वजह से बाड़ नहीं लगाई जा सकी है।

कहते हैं कि राष्ट्र विरोधी तत्व आन जाने के लिए इस आसान सीमा का फायदा उठाते हैं। सुरक्षा के लिहाज से सभी चाहते हैं कि बाड़ जल्द से जल्द लग जाए, लेकिन जीरो.लाइन पर लगे। अस्थायी रूप सेए गांव ने महामारी के मद्देनजर पिछले वर्ष से खुद को बांग्लादेश से अलग करने के लिए बांस और छोटी टहनियों से बनी बाड़ लगा रखी है। समझौते के अनुसारए जीरो लाइन से कम से कम 150 गज की दूरी पर बाड़ लगाई जाती है लेकिन हर बार ऐसा नहीं होता। बांग्लादेश के बॉर्डर गार्ड कुछ मामलों में जीरो लाइन के पास ही बाड़ लगाने के लिए सहमत हो जाते हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है