Covid-19 Update

2,06,027
मामले (हिमाचल)
2,01,270
मरीज ठीक हुए
3,505
मौत
31,653,380
मामले (भारत)
198,295,012
मामले (दुनिया)
×

Important : कांगड़ा में बढ़ा “टीबी का खतरा”, सामने आए 158 नए मामले

Important : कांगड़ा में बढ़ा “टीबी का खतरा”, सामने आए 158 नए मामले

- Advertisement -

मंडी। हिमाचल प्रदेश को 2021 तक टीबी मुक्त बनाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है और इस लक्ष्य प्राप्ति के लिए प्रदेश का स्वास्थ्य महकमा दिन-रात मेहनत करता हुआ नजर भी आ रहा है। 16 से 30 नवंबर तक प्रदेश भर में टीबी (TB) के नए रोगियों की पहचान के लिए स्वास्थ्य विभाग ने जो व्यापक अभियान चलाया गया उसमें 775 नए मामले सामने आए हैं। स्वास्थ्य विभाग ने इन सभी रोगियों को टीबी का उपचार देना शुरू कर दिया है। सबसे ज्यादा मामले कांगड़ा जिला में पाए गए हैं जबकि मंडी जिला दूसरे स्थान पर रहा है।


किन्नौर और लाहुल-स्पीति में पाए गए सबसे कम टीबी के रोगी

वहीं, जनजातिय जिला किन्नौर और लाहुल-स्पीति (Kinnaur and Lahul-Spiti) में सबसे कम मामले सामने आए हैं। 15 दिनों के अभियान में कांगड़ा जिला में 158, मंडी जिला में 115, सोलन जिला में 91, कुल्लू जिला में 69, चंबा जिला में 65, बिलासपुर जिला में 65, उना जिला में 55, शिमला जिला में 53, सिरमौर जिला में 49, हमीरपुर जिला में 41, किन्नौर जिला में 13 और लाहुल स्पिति जिला में 6 नए मामले सामने आए हैं। स्वास्थ्य विभाग ने यह अभियान इसलिए चलाया था ताकि टीबी के रोगियों की पहचान की जा सके और उन्हें समय रहते उपचार देकर पूरी तरह से ठीक किया जा सके। क्योंकि जब यह रोगी पूरी तरह से स्वस्थ होंगे तभी 2021 तक प्रदेश की टीबी मुक्त प्रदेश घोषित किया जा सकेगा।

मंडी जिला स्वास्थ्य अधिकारी डा. दिनेश ठाकुर ने बताया कि 15 दिन तक चले अभियान के दौरान मंडी जिला के 2 लाख 27 हजार 806 संभावित लोगों के थूक के सैंपल लिए गए और उनकी जांच की गई। जांच में 115 में टीबी के लक्षण पाए गए और अब इन्हें उपचार (treatment) देना शुरू कर दिया गया है। यह जांच पूरी तरह से निशुल्क थी और अब इन लोगों को उपचार भी निशुल्क ही दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि जिला ने इस अभियान में बेहतर प्रदर्शन किया है और जिला सहित पूरा प्रदेश टीबी मुक्त होने की दिशा में अग्रसर हो रहा है। उन्होंने बताया कि टीबी का ईलाज संभव है और यदि किसी को कोई संभावित व्यक्ति प्रतीत होता है तो वह इसकी जानकारी स्वास्थ्य विभाग को दे सकते हैं। विभाग उसकी जांच करवाकर उसे निशुल्क उपचार देगा।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें… 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है