Covid-19 Update

2, 84, 982
मामले (हिमाचल)
2, 80, 760
मरीज ठीक हुए
4117*
मौत
43,131,822
मामले (भारत)
525,904,563
मामले (दुनिया)

अद्भुतः कक्षा चार की छात्राओं ने बनाई रोबो पिचकारी, होली पर रंगों से करेगी सराबोर

कीटाणु से भी बचाएगी रोबो पिचकारी

अद्भुतः कक्षा चार की छात्राओं ने बनाई रोबो पिचकारी, होली पर रंगों से करेगी सराबोर

- Advertisement -

वाराणसी। होली पर बाजार में कई तरह की पिचकारियों की धूम है लेकिन वाराणसी के एक स्कूल में पढ़ने वाली चौथी क्लास में पढ़ने वाली दो बच्चियों की कोशिश कुछ अलग है, जिन्होंने रिमोट से चलने वाली रोबो पिचकारी बनाई है। यह पिचकारी होली के उल्लास को और सुरक्षित बनाएगी। साथ ही यह कीटाणु से भी बचाएगी। वाराणसी के सक्षम इंग्लिश स्कूल की कक्षा चार की दो छात्राएं जाह्न्वी पटेल और अंजलि कुमारी ने मिलकर इस होली पर उपयोग के लिए खास रोबो सरप्राइज पिचकारी बनाई है। ये पिचकारी रिमोट से संचालित होती है। इस रोबो पिचकारी को रिमोट की मदद से 50 मीटर दूर तक रंगो की बौछार करना संभव है।

यह भी पढ़ें- होली पर रहें अलर्टः कैशबैक ऑफर्स के नाम पर हो रही है धोखाधड़ी

इन छात्राओं ने बताया कि इस खास पिचकारी में एक कंटेनर लगाया है, जिसमें 2 लीटर तक पानी रंग भरा जा सकता है। इस पिचकारी को होली में रंग खेलने के साथ लोगों को कीटाणुओं से भी बचा सकेंगे, क्योंकि पिचकारी से हम लोगों पर एक खास तरह का एंटी बैक्टिीरियल रंग फेकेंगे जो होली के रंगो के साथ लोग बैक्टीरिया से भी बचाएगा। इस पिचकारी को बच्चों ने 3 दिनों में तैयार किया है। इसे बनाने में तकरीबन 400 रुपये का खर्च आया है।

40 से 50 मीटर के रेंज में डाल सकते हैं रंग

इस पिचकारी के वाटर टैंक में कलर डालने के बाद इसे जमीन पर रख कर एक रिमोट की मदद से अपने से दूर 40 से 50 मीटर के रेंज के अंदर कहीं भी भेज कर अपने दोस्तों पर रिमोट कंट्रोल से रंग डाल सकते हैं। रोबो पिचकारी चलते फिरते खिलौने की तरह है। इस रोबो पिचकारी के वाटर टैंक में एक 6 वोल्ट का पम्प लगाया गया है यह पम्प रिमोट की मदद से चालू किया जाता है। यानी जब भी कोई आप के रोबो पिचकारी के नजदीक आएगा तो आप अपने रिमोट के बटन को दबा कर दूर से दूसरों पर रंगो की बौछार कर सकते हैं। सक्षम इंग्लिश स्कूल ट्रस्ट की संस्थापक सुबिना चोपड़ा व विनीत चोपडा ने बताया कि यह बच्चों ने त्योहार स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए बहुत अच्छा इनोवेशन किया है। ऐसे कई बच्चें हमारे यहां समय-समय अविष्कार करते रहते है। यहां पर विज्ञान को बढ़ावा देने के लिए के बहुत सारे काम होते हैं।

–आईएएनएस

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है