सास-बहू में है तकरार तो अपनाएं ये खास उपाय, जरूर बढ़ेगा प्यार

सास-बहू में है तकरार तो अपनाएं ये खास उपाय, जरूर बढ़ेगा प्यार

- Advertisement -

शादी के बाद किसी भी लड़की के जीवन में काफी सारे नए रिश्ते बनते हैं उनमें सबसे महत्पूर्ण होता है सास-बहू का रिश्ता। यह रिश्ता सास और बहू दोनों के लिए नया होता है। सबसे ज्यादा विवाद भी इसी रिश्ते में होता है क्योंकि नए रिश्ता में एक-दूसरे को समझने समय लगता है। सास-बहू के बीच तालमेल बन जाए तो सब सही रहता है लेकिन अगर ऐसा न हो पाए तो घर में कलेश पड़ जाता है और अशांति का माहौल सा बन जाता है जो कि घर के लिए और घर में रहने वालों के लिए बिलकुल ठीक नहीं होता। आज हम आपको कुछ ऐसे ज्योतिषीय उपायों के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्हें अपनाकर आप इस कलह से मुक्ति पा सकते हैं …
महिलाएं अपनी सास से बैर रखती हैं अथवा उन्हें सास ही ऐसी मिलती है कि उससे बैर रखती है। ऐसे में पुरुष त्रिशंकु बन जाता है और किस ओर जाए यह सोचकर परेशान हो जाता है। इस परिस्थति से बचने के लिए गुरुवार के दिन भोजपत्र पर गायत्री मंत्र चंदन से लिखें और उसके 2 ताबीज बनाकर पीले कपड़े में एक अपनी माता के और एक पत्नी के दांयी भुजा पर बांध दें।
रोज एक तांबे के लोटे में जल भरें और पहले अपनी माता के हाथ से तथा बाद में पत्नी के हाथ से उसे स्पर्श कराकर तुलसी के पौधे में डाल दें। यह क्रिया रविवार के दिन नहीं करें।
रोज एक रोटी में गुड़ और चने डालकर शाम को अपनी माता व पत्नी से स्पर्श कराकर शाम को गाय को खिला दें।
रविवार को छोड़ कर रोज दो तुलसी के पत्ते पानी से धोकर पूजा में रखें और 21 बार गायत्री मंत्र पढ़कर एक पत्ता माता को व एक पत्नी को खिलाएं।
सास-बहू की कलह से परेशान हैं तो रोज सुबह अपने मटके में जहां पीने का पानी हो, उसमें 2 बूंद गंगाजल गायत्री मंत्र पढ़ते हुए डाल दें।
सास-बहू में आपसी संबंध में कटुता होने पर बहू या सास दोनों में कोई भी चांदी का चौकोर टुकड़ा अपने पास रखें और ईश्वर से संबंध अच्छे रहने की प्रार्थना करे। इससे दोनों के बीच में संबंध मधुर होते हैं।
सास-बहु में मधुर संबंध बनाने के लिए दोनों की एक साथ में हंसती-मुस्कुराती तस्वीर को खूबसूरत फ्रेम में बनवा लें। फिर इसे घर के नैत्रत्य कोण अथवा पश्चिम दिशा में लगा लें तो दोनों के बीच में कभी भी मतभेद नहीं होंगे और आपस में प्रेम बना रहेगा।
सास-बहू के बीच सदैव झगड़े रहते हों तो बहू मां दुर्गा या मां गौरी को सुनहरे लाल रंग की साड़ी अर्पित करें। उसके बाद उस साड़ी को अपनी सास को भेंट करें। यही काम सास भी कर सकती है, इससे सास-बहू के बीच तनाव में कमी आएगी।
डाइनिंग रूम और घर के अन्य स्थान पर भोजन करने की बजाय यदि रसोईघर में भोजन किया जाए तो पारिवारिक सदस्यों पर राहू का प्रभाव कम होता है और घर में शांति और सुख-समृद्धि में बढ़ोतरी होती है।
सास-बहू में किसी भी संबंध को सुधारने के लिए शुक्ल पक्ष के प्रथम गुरुवार से माथे पर हल्दी या केसर की बिंदी लगाना शुरू करें जल्द ही शांति का माहौल हो जाएगा।
यदि घर में सास-बहू के मध्य टकराव रहता है तो मंगलवार को सूजी का हलवा बनाकर उसको मंदिर के बाहर बैठे गरीबों में बांटना चाहिए। इससे रिश्ते मधुर होते हैं।
अगर रसोई में दोष है तो उसके आग्नेय कोण में एक लाल रंग का बल्ब लगा दें, इसके अतिरिक्त अगर रसोई घर आग्नेय कोण के स्थान पर किसी और दिशा में बनी हो तो उसकी दक्षिण और आग्नेय दिशा की दीवार को लाल रंग से रंगकर कर उसका दोष दूर किया जा सकता है। इससे घर का माहौल शांत रहेगा।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है