Covid-19 Update

2,00,085
मामले (हिमाचल)
1,93,830
मरीज ठीक हुए
3,418
मौत
29,823,546
मामले (भारत)
178,657,875
मामले (दुनिया)
×

जब  ‘सखी’ ने थामा हाथ तो ये महिलाएं भूल गई सारे गम

जब  ‘सखी’ ने थामा हाथ तो ये महिलाएं भूल गई सारे गम

- Advertisement -

प्रताड़ना या घरेलू हिंसा की शिकार हुई महिलाओं को अस्थाई आश्रय देने के लिए ऊना में बनाए गए सखी-वन स्टॉप सेंटर में जिला की 6 महिलाओं को सहारा मिला है। यह सभी महिलाएं पुलिस विभाग के माध्यम से वन स्टॉप सेंटर में भेजी गई हैं। घरेलू हिंसा के अंतर्गत मारपीट, दुष्कर्म, लैंगिक उत्पीड़न, भावनात्मक उत्पीड़न, बाल विवाह, महिला तस्करी, दहेज उत्पीड़न, एसिड अटैक, साइबर क्राइम, लावारिस महिलाएं एवं बच्चे व महिलाओं से संबंधित अन्य अपराध शामिल हैं।


सखी नाम से जाने जाने वाले वन स्टॉप सेंटर में किसी भी तरह की प्रताड़ना की शिकार महिला को 5 दिन तक रहने व खाने की निशुल्क सुविधा प्रदान की जाती है। इसके अलावा उन्हें आवश्यकता अनुसार चिकित्सीय तथा कानूनी मदद के साथ-साथ मनोवैज्ञानिक परामर्श भी प्रदान किया जाता है। केंद्र में रहने वाली महिलाओं की सुरक्षा के लिए यहां सीसीटीवी कैमरा भी लगाए गए हैं, जिनकी निगरानी जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं विकास विभाग के कार्यालय से की जाती है। पांच दिन से ज्यादा रहने के बाद पीड़ित महिला को शिमला जिला के मशोबरा में नारी सेवा सदन भेजा जा सकता है।महिला के साथ अगर कोई बच्चा हो तो उसके भी वन स्टॉप सेंटर में रुकने की व्यवस्था प्रदान की जाती है। वन स्टॉप सेंटर से सहायता प्राप्त करने के लिए पुलिस के साथ-साथ किसी एनजीओ या फिर महिला एवं बाल विकास विभाग से संपर्क किया जा सकता है।



जिला कार्यक्रम अधिकारी आईसीडीएस सतनाम सिंह ने कहा कि वन स्टॉप सेंटर को सखी के नाम से भी जाना जाता है। जहां घरेलू हिंसा से प्रभावित महिलाओं को एक ही छत के नीचे निजी और सार्वजनिक स्थानों में सहायता प्रदान की जाती है। कोई भी जरूरतमंद महिला फोन नंबर 01975-224899 तथा 9418115932, 9805518361 पर संपर्क कर सकती है। यह केंद्र चौबीस घंटे व सातों दिन खुला रहता है।इस केंद्र के बारे में उपायुक्त ऊना संदीप कुमार ने कहा कि इसका उद्देश्य परिवार, समुदाय और कार्य स्थल पर, हिंसा से प्रभावित, निजी और सार्वजनिक स्थानों में प्रभावित महिलाओं की सहायता करना है। हिंसा की शिकार महिला के लिए जब कोई सुरक्षित आश्रय स्थल नहीं होता, तब वन स्टॉप सेंटर उनकी मदद करता है। सेंटर के माध्यम से किसी भी उम्र, वर्ग, शिक्षा की स्थिति, वैवाहिक स्थिति, जाति, शारीरिक, यौन, भावनात्मक, मनोवैज्ञानिक और आर्थिक दुर्व्यवहार का सामना करने वाली महिलाओं को सहायता और निवारण के साथ सहायता प्रदान की जाएगी।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी YouTube Channel…

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है