Covid-19 Update

58,645
मामले (हिमाचल)
57,332
मरीज ठीक हुए
982
मौत
11,112,241
मामले (भारत)
114,689,260
मामले (दुनिया)

CM अपना अंजाम देख लें, कितने दिन Bail पे या फिर Jail में

CM अपना अंजाम देख लें, कितने दिन Bail पे या फिर Jail में

- Advertisement -

एचपीसीए प्रवक्ता संजय शर्मा ने बोला हमला, एचपीसीए हथियाने का जड़ा आरोप

धर्मशाला। सीएम वीरभद्र सिंह पर एचपीसीए प्रवक्ता संजय शर्मा पर बड़ा हमला बोला है। संजय ने कहा कि एचपीसीए पर आरोप लगाने से पहले सीएम अब अपने अंजाम को देख ले, कि वह कितने दिन बेल पे रहते हैं और कितने दिन जेल में। एचपीसीए के पदाधिकारियों को जेल भेजने के सपने देखने वाले सीएम का पूरा परिवार बेल पर है और उनके साथी जेल में हैं। संजय शर्मा ने कहा कि वीरभद्र सिंह 6 बार नहीं बल्कि 5 बार के सीएम हैं। छठी बार छल कपट से आजाद विधायक को अगवा करके और विधानसभा में अपना बहुमत सिद्ध नहीं कर पाए थे। एचपीसीए प्रवक्ता संजय शर्मा ने यह आरोप धर्मशाला में पत्रकार वार्ता के दौरान लगाए।

उन्होंने कहा कि सीएम वीरभद्र सिंह का केवल एक ही एजेंडा है, एचपीसीए को हथियाना और एचपीसीए के अध्यक्ष अनुराग ठाकुर को बदनाम करना व एचपीसीए के पदाधिकारियों को प्रताड़ित करना। संजय ने कहा कि जब तक वीरभद्र सिंह खुद पर हुए केस में नहीं फंसे, तब तक उन्होंने केवल एचपीसीए पर केस बनाने का काम किया। उन्होंने कहा कि वीरभद्र सिंह राजनीतिक द्वेष से काम करते हैं। इसका उदाहरण देते हुए संजय ने कहा कि एक बार अनुराग ठाकुर और अन्य लोगों को बुलाया गया था। उसके बदले में सरकार ने 186 का कलंदरा दाखिल किया था।

उस 186 के बदले में वह HIgh court गए। HC ने भी यही पाया कि यह केस ठीक नहीं है और उस केस को रद कर दिया था, जिसके बाद वीरभद्र सरकार ने SC में अपील की। जिस पर बीते कल SC में सुनवाई हुई और SC ने भी यही पाया कि यह मुकद्दमा गलत भावना व गलत तरीके से बनाया गया है।

वीरभद्र सिंह को बड़ा झटका

एचपीसीए प्रवक्ता  ने कहा कि एससी ने उस केस को डिसमिस कर दिया है। जो कि  सरकार व स्वयं वीरभद्र सिंह के लिए बड़ा झटका है। इससे पहले अनुराग ठाकुर की निजी जमीन पर विजिलेंस जांच करवाई गई, जिसे विजिलेंस ने भी गलत पाया और जांच बंद कर दी। यही नहीं, प्रदेश के विपक्ष के मुखिया पर भी एएन शर्मा को पुनर्नियुक्ति देने के मामले में सरकार को मुंह की खानी पड़ी। एनक्रोचमेंच का केस भी एचपीसीए पर एससी ने किया था, उसमें भी सरकार को मुंह की खानी पड़ी थी। संजय शर्मा ने राज्यपाल से आग्रह करते हुए कहा कि ऐसे केस में लाखों रुपए फीस जो एचपीसीए के केसिस पर दी है, वो वीरभद्र के निजी खाते से उस पैसे की वसूली की जाए, क्योंकि यह सरकार से नहीं बल्कि वीरभद्र की निजी खुन्नस की वजह से दायर किए गए थे।

उन्होंने सीएम वीरभद्र सिंह से सवाल किया कि आपका एलआईसी एजेंट जेल में बैठा है और आप खुद केस से बचने के लिए एक कोर्ट से दूसरे कोर्ट में जा रहे हो। संजय ने कहा कि दिल्ली में केस के पेसी को जाने के लिए जो वह खर्च करते हैं, वह उनके निजी खाते से वसूल किया जाए न कि सीएम के खाते से। इसके साथ ही संजय ने कहा कि सीएम एचपीसीए पर कुछ कर नहीं सके, लेकिन अपने बेटे की संस्था पर सरकार का करोड़ों रुपए बहाया है। न्होंने सीएम के पुत्र की संस्था को मिले धन की जांच सीबीआई से करवाए जाने की मांग भी की। संजय ने कहा कि उन्होंने सीएम के पुत्र पर आरोप लगाया था कि उन्होंने किंग्स इलेवन पंजाब से पैसा लिया और उसके बदले में उनके Entertainment tax के मसले को हल करने के एवज में पैसा लिया।

किंग्स इलेवन पंजाब का 2011 का Entertainment tax बकाया था। उसको सीएम ने रेटरोस्पेक्टिव डिसीजन लेने की पावर ही नहीं थी। अगर एक करोड़ टिकट सेल थी तो एक करोड़ ही टैक्स होना था, तो किस आधार पर 10 प्रतिशत टैक्स लिया। सीएम राहत कोष के लिए पैसा लिया लगा और इसके अलावा भी और पैसा लिया गया, जिसकी सीबीआई जांच करवाई जानी चाहिए।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है