Covid-19 Update

1,99,467
मामले (हिमाचल)
1,92,819
मरीज ठीक हुए
3,404
मौत
29,685,946
मामले (भारत)
177,559,790
मामले (दुनिया)
×

सैंज पन बिजली परियोजना की पहली इकाई में उत्पादन 20 से

सैंज पन बिजली परियोजना की पहली इकाई में उत्पादन 20 से

- Advertisement -

शिमला। सैंज पन बिजली परियोजना की पहली इकाई में बिजली उत्पादन 20 मई से शुरू होगा। 100 मेगावाट क्षमता की इस परियोजना की दूसरी यूनिट से उत्पादन अगले माह शुरू होगा। परियोजना में 50-50 मेगावाट क्षमता की दो टरबाइनें लगाई हैं।  कुल्लू जिले में ब्यास नदी की सहायक नदी सैंज पर बनी इस परियोजना का बैराज निहारनी गांव के समीप बनाया गया है। परियोजना में भूमिगत पॉवर हाउस का निर्माण सैंज नदी के दाहिनी ओर सियुंड गांव के समीप किया गया है। इस परियोजना में 3.85  मीटर ब्यास की 6.36 किलोमीटर लंबी सुंरग बनाई गई है और 50 मेगॉवाट की दो टरबाइनें लगी हैं। हिमाचल प्रदेश पावॅर कॉरपोरेशन के एमडी देवेश कुमार ने सैंज जल विद्युत परियोजना का दौरा किया और प्रोजेक्ट निर्माण के हो रहे कार्यों का निरीक्षण किया।

Sanjh Hydro Power Project: कॉरपोरेशन एमडी ने परियोजना का दौरा किया

उन्होंने कहा कि 100 मेगावॉट क्षमता की सैंज जल विद्युत परियोजना की पहली यूनिट 20 मई से उत्पादन में आ जाएगी और इस परियोजना की दूसरी यूनिट अगले माह तक क्रियान्वित कर दी जाएगी।


देवेश कुमार ने दौरे के दौरान पावॅर हाउस परिसर और बांध स्थल का भी निरीक्षण किया और परियोजना अधिकारियों को सियुंड स्थित पॉवर हाउस से बांध स्थल तक सड़क को पक्का करने के निर्देश दिए। उनका कहना था कि इससे परियोजना प्रभावित लोगों को भी लाभ मिलेगा। सैंज जल विद्युत परियोजना का मैकेनिकल परिचालन 25 अप्रैल को किया गया था। 100 मेगावॉट क्षमता की इस परियोजना से प्रति वर्ष 322 मिलियन यूनिट्स उत्पादन होगा। इससे प्रदेश सरकार को 100 करोड़ रुपए का राजस्व प्राप्त होगा।

10 वर्षों तक 100 यूनिट बिजली प्रति माह मिलेगी फ्री
इस परियोजना के प्रत्येक प्रभावित परिवार को 100 यूनिट बिजली प्रति माह 10 वर्षों तक मुफ्त में दी जाएगी। इसके अलावा परियोजना से होने वाली आय की 1 फीसदी राशि भूमि विकास प्राधिकरण खंड के तहत परियोजना प्रभावितों को दी जाएगी। इसके साथ-साथ परियोजना की लागत की 1.5 फीसदी राशि लाडा के तहत परियोजना प्रभावित क्षेत्र के विकास में खर्च की जाएगी। सैंज जल विद्युत परियोजना प्रभावित परिवारों के लिए बागवानी एवं कृषि प्रशिक्षण शिविर, तकनीकी क्षमता विकास एवं शैक्षणिक स्तर सुधार के लिए छात्रवृति प्रदान की गई है।

CM के संकेतः बंद हो सकती है Home Guard की ब्रेक प्रथा

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है