Expand

Satti के बोल : ऊना Hospital को बूचड़खाना बनाने पर तुली Govt

Satti के बोल : ऊना Hospital को बूचड़खाना बनाने पर तुली Govt

- Advertisement -

सुनैना जसवाल/ऊना।  प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती ने आरोप लगाया है कि प्रदेश सरकार ऊना के क्षेत्रीय अस्पताल को बूचड़खाना बनाने पर तुली हुई है। बुधवार को सतपाल सत्ती ने सदर हलके के भडोलियां कला में पंचायत के नए कार्यालय का उद्घाटन करने के बाद उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि क्षेत्रीय अस्पताल की हालत बद से बदतर होती जा रही है।
  • महज सैर सपाटा कर लौट गए कौल सिंह ठाकुर
उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य मंत्री ठाकुर कौल सिंह महज सैर सपाटा कर ऊना से चले गए। क्षेत्रीय अस्पताल में घोषणा के बावजूद मंत्री चिकित्सकों की तैनाती कर पाने में असफल साबित हुए हैं। हालत यह है कि दुर्घटनाओं में घायलों को रेफर किया जा रहा है।सती ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग की गहरी नींद अभी शायद पूरी नहीं हुई है। सरकार नाम की कोई चीज नहीं है। कोई सुनने वाला नहीं है। उन्होंने कहा कि बीजेपी की सरकार में ऊना अस्पताल में हर समय डॉक्टर पोस्टों से अधिक रहे और आज 10 डॉक्टर कम है और नर्सिंग स्टाफ भी कम है। ऐसे में स्वास्थ्य मंत्री व सीएम को जवाब देना चाहिए।

आश्वासन देने के बाद भी रद नहीं हुए तबादले

सतपाल सत्ती ने कहा कि अस्पतालों से चिकित्सकों के तबादले किए जा रहे हैं और उनकी जगह आया कोई नहीं। जिनका तबादला किया उन्हें हवा में लटका दिया है। मंत्री तबादला रद करने की बात कहते हैं और कोई तबादला 3 दिनों में रद नहीं होता। इससे साबित होता है कि सरकार की प्रशासन पर पकड़ क्या है? सतपाल सिंह सत्ती ने कहा कि यह सरकार महिला विरोधी है। उन्होंने कहा कि एक महिला चिकित्सक को जानबूझकर तंग किया जा रहा है।

पीजीआई सेंटर को नहीं दी भूमि

सतपाल सिंह सत्ती ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार में स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने सदर हलके में पीजीआई सैटेलाइट सेंटर खोलने की घोषणा की है। जिस पर 320 करोड़ पर खर्च किए जाएंगे। इसके लिए 3 माह बीत जाने के बाद भी प्रदेश सरकार ने भूमि का हस्तांतरण पीजीआई के नाम नहीं किया है। जिसके कारण योजना में देरी हो रही है। उन्होंने कहा कि पीजीआई सैटेलाइट सेंटर खोलने से स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर करने में मदद मिलेगी। वहीं उन्होंने कहा कि मदर एंड चाइल्ड केयर सेंटर का 4 करोड़ रुपए सरकार के पास पहुंच चुका है। बावजूद इसके सरकार इसे शुरू करने में नाकाम साबित हो रही है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है