Covid-19 Update

2,18,314
मामले (हिमाचल)
2,12,899
मरीज ठीक हुए
3,653
मौत
33,678,119
मामले (भारत)
232,488,605
मामले (दुनिया)

Acid Attack: आज स्कूल प्रशासन से होगी पूछताछ ,छात्रा के बयान भी किए दर्ज

Acid Attack: आज स्कूल प्रशासन से होगी पूछताछ ,छात्रा के बयान भी किए दर्ज

- Advertisement -

हमीरपुर। जिला के टौणी देवी इलाके में उटपुर स्थित सरकारी स्कूल में हुए एसिड प्रकरण ( Acid case) में पीड़ित छात्रा शिवांगी का बयान दर्ज कर पुलिस ( Police) देर शाम को वापस लौट आई है। आज पुलिस फिर उटपुर पहुंचेगी तथा स्कूल प्रशासन( School administration)से इस मामले की पूछताछ करेगी। जाहिर है स्कूल की दसवीं कक्षा की तीन छात्राओं पर एक छात्र ने एसिड फेंक दिया था। मामला पुलिस के संज्ञान में आने के बाद डीएसपी रेणु शर्मा को इस मामले की जांच की ज़िम्मेदारी सौंपी गई है। पीड़ित छात्रा अपने घर उटपुर में ही है और केवल पीएचसी उटपुर में ही उसका उपचार हुआ। शिवांगी के पिता ज्योति प्रकाश ने फ़ोन पर बताया कि पुलिस को लिखित शिकायत सौंप दी गयी है। पुलिस शनिवार शाम को उनके घर उटपुर आई थी और बेटी शिवांगी का बयान दर्ज कर वापिस चली गई है। उन्होंने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि उनकी बेटी को न्याय मिलेगा तथा आरोपी को पुलिस क़ानून के तहत कार्रवाई करेगी।

यह भी पढ़ें: Kullu: धामण पुल के सेंटर चैनल टूटे, यातायात ठप-आउट सराज की 58 पंचायतों का संपर्क टूटा

 

उधर एसिड हमले को लेकर सरकारी स्कूलों( Government schools) की विज्ञान प्रयोगशालाओं की पोल भी खुली है। हाल यह है कि सरकारी स्कूलों की विज्ञान प्रयोगशालाएं राम भरोसे चल रही हैं। कई स्थानों में चपड़ासी भी लैब अटेंडेंट के रूप में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। सूत्रों के अनुसार विज्ञान शिक्षा को लेकर सरकारी स्कूलों को जितना फ़ंड आता है, उस हिसाब से विज्ञान प्रयोगशालाओं की सुरक्षा व्यवस्था में कई कमियां हैं। दिलचस्प बात यह है कि दसवीं कक्षा के लिए सांइस प्रेक्टिकल ज़रूरी हैं, स्कूलों में लैब भी हैं लेकिन लैब अटेंडेंट की पोस्ट ही नहीं है। ऐसे में सारी ज़िम्मेदारी साइंस टीचर पर आ जाती है। ऐसे में कई बिना प्रशिक्षण के ही लैब सम्भाले हुए हैं। स्कूलों की लैब में कई ख़तरनाक एसिड केमिकल एवं ज़हरीले रासायनिक तत्व भरे पड़े हैं। छोटी सी चूक भी उटपुर हादसे को जन्म दे सकती है। इस बारे में कोई निर्देशिका शिक्षा विभाग की ओर से न होने से स्कूलों में ज़िम्मेदारी को लेकर असमंजस की स्थिति बनी रहती है। उधर विज्ञान अध्यापक संघ के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष मनोज परिहार ने उटपुर स्कूल की घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। उन्होंने मांग की है कि सुरक्षा की दृष्टि से सभी विज्ञान प्रयोगशालाओं में केवल प्रशिक्षित लैब अटेंडेंट ही लगाए जाने चाहिए।इससे हज़ारों बेरोज़गार प्रशिक्षित लैब अटेंडेंट को रोज़गार भी मिलेगा।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group…

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है