Covid-19 Update

59,148
मामले (हिमाचल)
57,580
मरीज ठीक हुए
987
मौत
11,229,271
मामले (भारत)
117,446,648
मामले (दुनिया)

VC के खिलाफ SFI का ऐलान-ए-जंग

VC के खिलाफ SFI का ऐलान-ए-जंग

- Advertisement -

प्रो एडीएन बाजपेयी के खिलाफ मोर्चा खोलेगा संगठन

allegations against vc: शिमला। प्रदेश विश्वविद्यालय के वीसी प्रो एडीएन बाजपेयी और छात्र संगठन एसएफआई के बीच तकरार कम होने का नाम नहीं ले रही है। वीसी द्वारा एसएफआई पर विकास में रोड़ा बनने के आरोप लगाने के बाद एसएफआई ने भी पलटवार किया है। एसएफआई ने वीसी पर कई आरोप लगाते हुए उनकी विजिलेंस जांच की मांग की है। छात्र संगठन ने ऐलान किया है कि वे अगले सप्ताह से वीसी हटाओ-विश्वविद्यालय बचाओ अभियान शुरू करेगा।

allegations against vc: एसएफआई के खिलाफ लगाए आरोपों को करें साबित

एसएफआई के राज्य सचिवालय सदस्य और विवि इकाई के सचिव नोवल ठाकुर ने कहा कि विश्वलविद्यालय के वीसी ने एसएफआई के खिलाफ जो आरोप लगाए हैं, वे उन्हें साबित करें। उन्होंने उल्टा वीसी पर आरोप लगाए हैं कि उन्होंने विवि में कथित तौर पर भ्रष्टाचार किया है। उन्होंने कहा कि वीसी प्रो बाजपेयी जब से इस विवि में आए हैं, यहां पर छात्रों के विश्वास में लिए बिना फीस बढ़ाई गई। उन्होंने आरोप लगाया कि वीसी पर एमटीए के 5 छात्रों को बिना पेपर दिए पास करने का भी आरोप है और जर्मन तकनीक की मार्क्सशीट देने में अपने एक रिश्तेदार को लाभ पहुंचाने का भी आरोप लगा है।

ठाकुर ने कहा कि विवि में विकास शुल्क के नाम पर जो धन एकत्र किया गया, उसका सही रूप में इस्तेमाल नहीं किया गया। इसके साथ-साथ उन्होंने 2014 में एक षड्यंत्र के तहत एससीए के चुनाव बंद करवाए और उसी वर्ष करीब छह माह पर विवि में धारा 144 लगाकर रखी। उन्होंने कहा कि वीसी ने नव वर्ष पर 28,350 रुपए कार्ड पर फूंक डाले और इसका सारा भार विवि पर डाला। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि एससी-एसटी छात्रों के लिए बने छात्रावास में पुलिस को ठहराया गया है और जिन छात्रों के यह मिलना चाहिए था, उन्हें इससे वंचित किया गया। उन्होंने वीसी पर विवि की संपत्ति और कर्मचारियों का अपने हित के लिए इस्तेमाल करने का भी आरोप लगाया।

रूसा लागू कर छात्रों के भविष्य से खिलवाड़

छात्र नेता ने कहा कि वीसी ने रूसा को लागू कर प्रदेश के विद्यार्थियों के भविष्य से खिलवाड़ किया गया। उन्होंने कहा कि वीसी ने विवि के तहस-नहस कर डाला है और इसके बाद विकास में रोड़ा अटकाने का आरोप भी एसएफआई पर लगाया जाता है। उन्होंने कहा कि वीसी एसएफआई को इसलिए टारगेट कर रहे हैं, क्योंकि उन्होंने वीसी के हर गलत कार्य का पर्दाफाश किया है।

उनका कहना था कि एसएफआई जब भी फीस बढ़ोतरी का विरोध करती थी, वीसी एबीवीपी से मिलकर हिंसा का माहौल तैयार करती थी। उन्होंने सरकार से मांग की कि वीसी के खिलाफ जो भी आरोप लगे हैं, उनकी विलिजेंस से जांच करवाई जाए। उन्होंने कहा कि अब वीसी तीसरी बार विवि के वीसी बनने की बात कह रहे हैं और एसएफआई इसे किसी भी सूरत में होने नहीं देगी। उन्होंने कहा कि एसएफआई वीसी के खिलाफ अगले सप्ताह से वीसी हटाओ-विवि बचाओ अभियान शुरू करेगी और यह तब तक जारी रहेगा, जब तक प्रो बाजपेयी को वीसी पद से हटाया नहीं जाता।

Delhi-UP की हवा को Congress व उसके सहयोगियों ने किया दूषित

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है