Expand

Primary Education-छत जर्जर, दीवारों से गिर रहे पत्थर

Primary Education-छत जर्जर, दीवारों से गिर रहे पत्थर

- Advertisement -

मंडी। छत जर्जर, दीवारों से टूट कर गिर रहे पत्थर और नीचे बच्चों की पढ़ाई। जी हां यह किसी फिल्म का mandi3दृश्य नहीं बल्कि हकीकत है। बात हो रही है मंडी के साथ लगते प्राइमरी स्कूल घरवासड़ा की। यह वही स्कूल है जहां के मिडल स्कूल पर कुछ दिन पहले ही ताला लग चुका हैं और अब प्राइमरी स्कूल भवन के गिरने से कोई बड़ा हादसा होने का इंतजार किया जा रहा है। नन्हें मुन्हों को तो इस बात का इल्म भी नहीं कि वह कितने बड़े खतरे के साए में अपनी पढ़ाई कर रहे हैं,  लेकिन अभिभावकों को हर रोज इसी बात का चिंता सताए रहती है कि न जाने कब कोई अनहोनी सुनने को मिल जाए।

  • घरवासड़ा स्कूल की हालत खराब, खतरे में पढ़ाई कर रहे नौनिहाल
  • मिडल स्कूल पर कुछ दिन पहले ही लग चुका है ताला

mandi2स्थानीय निवासी अमरी देवी ने बताया कि बच्चों को स्कूल भेजना उनकी मजबूरी है, लेकिन हर वक्त इसी बात का डर सताता रहता है कि न जाने कब यह जर्जर हो चुका भवन बड़े हादसे को निमंत्रण दे। स्कूल के अध्यापकों की मानें तो उन्होंने इस बारे में शिक्षा विभाग के उच्चाधिकारियों को कई बार सूचित किया, लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। स्कूल के अध्यापक अमर सिंह ने बताया कि बरसात के दिनों में बच्चों को पढ़ा पाना बेहद जोखिम भरा हो जाता है, लेकिन करें भी तो क्या, मजबूरी नाम की विवश्ता इन्हें बच्चों को यहीं पर पढ़ाने को बाध्य कर देती है, लेकिन जब इस बारे में शिक्षा विभाग के उच्चाधिकारियों से बात की गई तो मामला कुछ और ही निकला। प्रारंभिक शिक्षा उपनिदेशक केडी शर्मा से मालूम हुआ कि प्राइमरी स्कूल घरवासड़ा के जर्जर भवन की मरम्मत और चार दीवारी लगाने के लिए करीब 6 लाख रुपए दिसंबर, 2015 को ही जारी कर दिया गया है,  लेकिन अभी तक शिक्षा विभाग के अधिकारी ही इस पैसे पर कुंडली मार कर बैठे हैं। उन्होंने इस बाबत जांच का भरोसा भी दिलाया है। एक तरफ स्कूल के नौनिहाल हैं जो खतरे से अनजान शिक्षा ग्रहण करने में लगे हुए हैं और दूसरी तरफ शिक्षा विभाग के ही कुछ अधिकारी ऐसे हैं जो जानबूझकर किसी बड़े हादसे का इंतजार कर रहे हैं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है