Covid-19 Update

2,04,887
मामले (हिमाचल)
2,00,481
मरीज ठीक हुए
3,495
मौत
31,329,005
मामले (भारत)
193,701,849
मामले (दुनिया)
×

Shanta के बोल, क्रान्तिकारी होगा Generic Medicine लिखने की बाध्यता का कानून

Shanta के बोल, क्रान्तिकारी होगा Generic Medicine लिखने की बाध्यता का कानून

- Advertisement -

Generic Medicine Law: पालमपुर। सांसद शांता कुमार ने रोगी की पर्ची पर केवल जेनेरिक दवाई लिखने की बाध्यता का कानून का कदम ऐतिहासिक और क्रान्तिकारी होगा। इससे एक भी पैसा खर्च किए बिना करोड़ों की दवाइयां गरीबों को सस्ती मिलनी शुरू हो जाएगी। पीएम नरेन्द्र मोदी को बधाई देते हुए शांता कुमार ने कहा कि 2013 में संसद की स्थाई समिति के अध्यक्ष के रूप में उन्होंने इस संबंध में विस्तृत रिपोर्ट दी थी तथा वे इस संबंध में लगातार प्रयत्न करते रहे। वे तत्कालीन स्वास्थ्य मंत्री गुलाम नबी आजाद से मिले थे, परन्तु पिछली सरकार ने कुछ नहीं किया।

उन्होंने कहा कि कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि भारत का दवाई उद्योग जेनेरिक दवाई बनाने में विश्व भर में अग्रणी है। लगभग एक लाख करोड़ रुपयों की दवाइयां बनती है। पचास हजार करोड़ की दवाइयों का निर्यात होता है।अमेरिका, यूरोप और यूनिसेफ भी यह दवाइयां खरीदता है। बड़ी कंपनियों की ब्राडेंड दवाइयों के मुकाबले इन दवाइयों का मूल्य आधे से भी कम होता है और गुणवत्ता में बिलकुल बराबर होती है।


Generic Medicine Law: गरीबों को नहीं मिलती जेनेरिक दवाइयां

शांता कुमार ने कहा कि कमेटी ने लंबे अध्ययन के बाद रिपोर्ट में कहा था कि भारत में आज भी गरीब आदमी को ये जेनेरिक दवाइयां नहीं मिलती क्योंकि भारत के अधिकतर डाक्टर रोगी की पर्ची में जेनेरिक दवाइयां नहीं लिखते है, वे केवल बड़ी कंपनियों की ब्रांडेड दवाइयां लिखते है। कमेटी ने यह सुझाव दिया था कि सरकार कानून द्वारा डाक्टरों को केवल जेनेरिक दवाइयां लिखने के लिए बाध्य करें। उन्होंने कहा कि उन्होने इस संबंध में पीएम स्वास्थ्य मंत्री और रसायन मंत्री को पत्र लिखे थेऔर उनसे मिले भी थे। शांता कुमार ने कहा कि पिछले पांच साल के प्रयत्न पूरे हो रहे हैं । इस बात की उन्हें बहुत प्रसन्नता है।

BJP को झटका, हाथ से फिसली कुर्सी

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है