×

Shanta Kumar बोले – तब्लीगी मूर्खता ना होती तो आज सब देशों से आगे होता भारत

Shanta Kumar बोले – तब्लीगी मूर्खता ना होती तो आज सब देशों से आगे होता भारत

- Advertisement -

पालमपुर। बीजेपी के वरिष्ठ नेता शांता कुमार का कहना है कि पूरे विश्व में कोरोना का संकट बढ़ता ही जा रहा है रुकने का कहीं पर भी नाम नहीं ले रहा हम सब हिम्मत व धैर्य से इसका मुकाबला करें, घर पर जुटे रहें और योग करते रहें। शांता कुमार ने अपने फेसबुक पेज पर लिखा कि भारत में यह तब्लीगी मूर्खता ना होती तो भारत आज सब देशों से आगे होता। क्योंकि भारत ने समय रहते सब प्रकार की सावधानियां लागू कर दी थी। प्रशासन उन मूर्खों को घर-घर ढूंढने में लगा है। यह देश का बहुत बड़ा दुर्भाग्य है।


हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

तब्लीगी संप्रदाय के लोग विश्व में 60 से अधिक देशों में रहते हैं यदि वहां भी ऐसी मूर्खता हुई होती तो इस समय तक आधी दुनिया ऊपर पहुंच गई होती यह समझ नहीं आता कि उन देशों में इस प्रकार से कभी कोई घटना नहीं घटती इसका एक बुनियादी कारण है दो मनोवृतियों का फर्क – एक मनोवृति है मोहम्मद करीम छागला कि और दूसरी है ओवैसी की । छागला सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश थे उन्होंने मुंबई में कहा था ” मेरी रगों में भारत के ऋषि मुनियों का खून दौड़ता है” उनका तात्पर्य यह था कि उनके पूर्वज हिंदू थे लेकिन उन्होंने किसी कारण इस्लाम से विचार किया था । ओवैसी कहते हैं ” हमारे पूर्वजों ने भारत को जीत कर 800 साल तक राज किया था ” ।

क्रमांक -12, 6 अप्रैलपूरे विश्व में कॅरोना का संकट बढ़ता ही जा रहा है रुकने का कहीं पर भी नाम नहीं ले रहा हम सब हिम्मत…

Gepostet von Shanta Kumar am Sonntag, 5. April 2020

यह एक ऐतिहासिक सच्चाई है कि विदेशों से बहुत कम मुसलमान आक्रमणकारी आए आज के करोड़ों मुसलमान उस समय के उन हिंदुओं की संतान है जिन्होंने किसी कारण इस्लाम स्वीकार किया था। जो थोड़े से भारत में आए कुछ शासक बन गए और आम मुसलमान भारत को लूट कर वापस चले गए जिन्होंने सोमनाथ से लेकर कांगड़ा मंदिर तक लूट की। वे भारत में नहीं रुके ओवैसी मनोवृति के लोग आज भी रहते भारत में है परंतु अपने आपको उन विदेशी बर्बर लुटेरे आक्रमणकारियों का वंशज समझते हैं । मुझे खुशी है भारत के बहुत से मुसलमान भाई छागला मनोवृति को मानते हैं । वह सब देशभक्त हैं स्वतंत्रता के युद्ध में भी उन्होंने भाग लिया परंतु भारत की कठिनाई यह है कि ओवैसी प्रवृत्ति के लोग तबलीग की तरह की परेशानियां पैदा करते रहते हैं भारत को इस समस्या के स्थाई समाधान का प्रयत्न करना चाहिए टीवी पर कुछ ऐसे लोगों को वह भाषण सुनने को मिले जो खुलेआम भारत में करोना बढ़ाने का प्रचार कर रहे थे । वह सुनकर सबका दिल दहला होगा।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है