Covid-19 Update

2,06,027
मामले (हिमाचल)
2,01,270
मरीज ठीक हुए
3,505
मौत
31,653,380
मामले (भारत)
198,295,012
मामले (दुनिया)
×

इनसानी दखल ने समुंद्र में मचाई तबाही, 70 फीसदी घट गई शार्क की आबादी

इनसानी दखल ने समुंद्र में मचाई तबाही, 70 फीसदी घट गई शार्क की आबादी

- Advertisement -

इनसान का दखल धरती ही नहीं समुंद्र (Sea) में भी बेतहाशा बढ़ता जा रहा है। इनसानी दखल (Human Intervention) से कई वन्य जीवों की प्रजातियां (Species) तो विलुप्त हो चुकी हैं, जबकि कई विलुप्ति (Extinction) की कगार पर जा पहुंची है। समुंद्र में भी इनसान की कितना दखल बढ़ चुका है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि अब शार्क (Shark) मछलियों के अस्तित्व पर ही खतरा मंडराने लगा है। एक रिसर्च में ये बात सामने आई है कि इनसान का दखल यूं ही बदस्तूर जारी रहा तो समुंद्र से शार्क मछलियां ही गायब हो जाएंगी।

यह भी पढ़ें: Snowy Owl -130 साल के बाद पहली बार देखा गया बर्फीला उल्लू, देखने के लिए उमड़ रही भीड़

वैज्ञानिकों के द्वारा हाल ही में एक रिसर्च की गई है। इस रिसर्च के मुताबिक 1970 के बाद से दो प्रजातियों में भारी गिरावट देखी गई है। शार्क और रे मछलियों की आबादी में बीते 20 साल में 71 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। जानकारी के अनुसार शार्क और रे मछलियों की 31 प्रजातियां है, जिसमें 24 प्रजातियों का अस्तित्व ही खतरे में पड़ चुका है। इसका कारण समुंद्र में बेतहाशा मछली पकड़ना। रिसर्च में कहा गया है कि बीते 50 साल में हिंद महासागर में शार्क मछलियों की आबादी में 84.7 फीसदी की गिरावट हुई है। साथ ही ओशेनिक वाइटटिप और ग्रेट हैमरहेड शार्क प्रजाती भी विलुप्त होने की कगार में पहुंच चुकी है।


यह भी पढ़ें: ये अमीर महिला खा जाती है बिल्ली का खाना, वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

कनाडा की सिमोन फ्रासेर यूनिवर्सिटी और ब्रिटेन की यूनिवर्सिटी ऑफ एक्सटेर के वैज्ञानिकों ने इस बाबत शोध किया है। इस रिसर्च में ये बात सामने आई है कि 1970 से लेकर अब तक मछली पकड़ने का दबाव 18 गुना बढ़ा है। ऐसे समुद्र का इको सिस्टम भी बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। इसी वजह से कई जलीय जीव तो विलुप्ति की कगार पर पहुंच चुके हैं। वैज्ञानिकों के मुताबिक जल्द ही इस बाबत कदम नहीं उठाए गए तो इसके नतीजे खतरनाक हो सकते हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है