×

Sudhir मोह में फंसे हैं CM Virbhadra Singh

Sudhir मोह में फंसे हैं CM Virbhadra Singh

- Advertisement -

शिमला। धर्मशाला को राज्य की दूसरी राजधानी घोषित करने के सीएम वीरभद्र सिंह के ऐलान के बाद राज्य में मचा सियासी तूफान थमता नजर नहीं आ रहा। इस मुद्दे पर विपक्ष हमलावर हो गया है और सीएम की इस घोषणा को शिगूफा करार दिया है। यही नहीं, विपक्ष ने इस कदम को बिना चर्चा किए और यहां तक कि कैबिनेट से भी सलाह लिए बिना उठाया गया यह कदम करार दिया है। शिमला से विधायक सुरेश भारद्वाज ने भी हमलावर तेवर अपनाए हैं।


  • धर्मशाला को दूसरी राजधानी बनाने पर विपक्ष के निशाने पर सीएम
  • विधायक भारद्वाज का आरोप, बिना कैबिनेट की सलाह लिए कर दी घोषणा

उन्होंने यहां मीडिया से अनौपचारिक बातचीत में सीएम वीरभद्र सिंह पर आरोप लगाए हैं कि वह सुधीर शर्मा के प्रेम में हैं और उनके कहे पर ही पहले शिमला को स्मार्ट सिटी से बाहर किया। यहीं नहीं अब इस प्रेम में सीएम धर्मशाला को राज्य की दूसरी राजधानी बनाने पर तुले हुए हैं। उनका कहना था कि सीएम यह सब एक षड्यंत्र के तहत कर रहे हैं और राज्य की जनता इसे सहन नहीं करेगी। उन्होंने कहा कि सीएम जनता को इस मुद्दे पर बेवकूफ बना रहे हैं।

भारद्वाज ने कहा कि सीएम तो अपनी ही कही बात से मुकर जाते हैं। पहले सीएम ने कहा कि धर्मशाला शीतकालीन राजधानी होगी और फिर दूसरे दिन कहा कि धर्मशाला राज्य की दूसरी राजधानी होगी। उन्होंने कहा कि इसे लेकर तो कैबिनेट में ही विरोध है और मंत्री ही इसका विरोध कर रहे हैं। उनका कहना था कि जहां एक चतुर्थ श्रेणी का पद भरने को कैबिनेट से मंजूरी ली जाती है, वहीं राजधानी घोषित करने के मामले पर कैबिनेट से ही कोई चर्चा नहीं की गई। उन्होंने कहा कि अब सीएम कह रहे हैं कि राजधानी तो यह पहले ही घोषित है और वहां विधानसभा का शीतकालीन सत्र भी हो रहा है। बीजेपी नेता ने सीएम को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि चुनावी वर्ष में सीएम ने यह शिगुफा छोड़ा है। उन्होंने कहा कि 68 लाख की आबादी वाला हिमाचल दो-दो राजधानियों का बोझ नहीं सह सकता। उन्होंने कहा कि देश में बड़े-बड़े राज्य हैं और वहां भी दो-दो राजधानी नहीं है। ऐसे में हिमाचल को दो-दो राजधानियों की जरूरत ही नहीं है और यह बन भी नहीं सकती। वैसे भी आज के दौर में 5-6 घंटे के अंतर को मुद्दा नहीं बनाया जा सकता। उन्होंने सीएम को सलाह दी कि वे राज्य की पहले से बनी हुई राजधानी को तरजीह दें और इसके ऐतिहासिक महत्व को समझते हुए इसके विकास पर ध्यान दें। उनका कहना था कि अंग्रेजों की इस ग्रीष्मकालीन राजधानी को और आकर्षक बनाए जाने की जरूरत है और सीएम को इस दिशा में कार्य करना चाहिए।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है