Covid-19 Update

2,00,410
मामले (हिमाचल)
1,94,249
मरीज ठीक हुए
3,426
मौत
29,933,497
मामले (भारत)
179,127,503
मामले (दुनिया)
×

कुछ हटकर है छोटी काशी की शिवरात्रि

कुछ हटकर है छोटी काशी की शिवरात्रि

- Advertisement -

वी कुमार/मंडी। हिमाचल प्रदेश के मंडी (Mandi) शहर को छोटी काशी के नाम से जाना जाता है। इसका कारण है यहां 81 प्राचीन मंदिरों का होना। इन प्राचीन मंदिरों (Ancient temples) में सबसे ज्यादा संख्या भगवान शिव के मंदिरों की है। सदियों पहले मंडी रियासत पर राज करने वाले राजाओं की भगवान शिव के प्रति अटूट आस्था रही।

ये भी पढ़ें : महाशिवरात्रि पर काठगढ़ में उमड़ता है भक्तों का सैलाब, होता है अर्धनारीश्वर मिलन

 


राजाओं ने अपनी-अपनी इच्छानुसार शिवालयों का निर्माण करवाया। बदलते वक्त के साथ यह शहर छोटी काशी (Choti kashi) और शिवभूमि के नाम से जाना जाने लगा। मंडी शहर में भगवान शिव के दर्जनों प्राचीन मंदिर मौजूद हैं, जिनमें प्रमुख रूप से बाबा भूतनाथ, एकादश रूद्र, अर्धनारीश्वर, त्रिलोकीनाथ, पंचवक्त्र, नीलकंठ महादेव और महामृत्युंज्य शामिल हैं।

भगवान शिव (Lord Shiva) के इन्हीं मंदिरों के कारण मंडी शहर की शिवरात्रि को कुछ खास बनाने का प्रयास किया गया। सदियों पूर्व किसी राजा ने शिवरात्रि पर अपनी रियासत की प्रजा को देवी-देवताओं के साथ उनके पास आने को कहा। एक बार शुरू हुआ यह सिलसिला परंपरा बन गया और आज तक इस परंपरा का निर्वहन किया जाता है। शिवरात्रि से एक दिन पहले जिला के प्रमुख देवी-देवता मंडी पहुंचते हैं और शिवरात्रि पर्व (Shivratri festival) को यहीं पर मनाते हैं। धीरे-धीरे इस परंपरा का स्वरूप बढ़ता गया और आज यह अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त महोत्सव बन गया है।

मंडी जिला के लोगों को वर्ष भर शिवरात्रि पर्व का इंतजार रहता है क्योंकि इस दौरान उन्हें भोले बाबा को प्रसन्न करने के साथ अन्य देवी-देवताओं के दर्शनों का सौभाग्य भी मिल पाता है। लोग शिवालयों के बाहर कतारों में खड़े होकर भोले बाबा के दर्शन करते हैं और उन्हें श्रद्धानुसार भेंट अर्पित करके खुश करने का प्रयास करते हैं। मंडी की शिवरात्रि की खास बात यह भी है कि यह सिर्फ एक दिन नहीं मनाई जाती। तारा रात्रि से इसका शुभारंभ हो जाता है और शिवरात्रि से अगले 8 दिन तक यह पर्व इसी तरह धूमधाम और हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है