Covid-19 Update

2,23,145
मामले (हिमाचल)
2,17,645
मरीज ठीक हुए
3,723
मौत
34,213,644
मामले (भारत)
245,086,616
मामले (दुनिया)

Dehra : खबली की शोभा- खुद भी बनी स्वावलंबी, औरों को भी दिखा रहीं राह

सब्जी आदि उगाकर हर साल कमा रही हजारों, पशुओं की सेहत का भी रख रही ख्याल

Dehra : खबली की शोभा- खुद भी बनी स्वावलंबी, औरों को भी दिखा रहीं राह

- Advertisement -

देहरा। महिलाएं घर की चारदिवारी में ही अब कैद होकर नहीं रह गई हैं। चूल्हा चौका तक ही सीमित नहीं हैं, उनकी उड़ान लंबी होती जा रही है। इसे हम हौसलों की उड़ान भी कह सकते हैं। जब हौसले बुलंद हो तो बड़ी से बड़ी मंजिल भी छोटी दिखने लगती है। एक शायर ने भी तो कहा है… ‘कौन कहता है कि आसमां में सुराख नहीं हो सकता, एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारो’…। जी हां, हम आपको एक ऐसी महिला के बारे बताने जा रहे हैं, जो ना केवल आय के साधन अर्जित कर स्वावलंबी बनी, बल्कि दूसरों को भी राह दिखा रही हैं। यह महिला प्राकृतिक खेती से सब्जी आदि उगाकर लोगों की सेहत का ख्याल तो रख ही रहीं हैं, वहीं पशुओं की सेहत के लिए भी कार्य कर रही हैं। ये सब कर दिखाया हिमाचल के जिला कांगड़ा (District Kangra) के देहरा विकास खंड के अंतर्गत गांव खबली की शोभा देवी ने।

 

 

 

घर की चारदिवारी से बाहर निकलकर कुछ करने का जज्बा शोभा देवी में वर्ष 2008 में आया। हुआ कुछ ऐसा कि 2008 में सवेरा संस्थान रैन्खा ज्वालामुखी (SAWERA) के कार्यकर्ता सुरेंद्र कुमार व सुभाष चौहान गांव खबली किसी कार्यक्रम के लिए गए। वहां पर शोभा देवी पत्नी जोगिंदर सिंह से मुलाकात हुई। संस्थान द्वारा गांव पाइसा व मरेढ़ा गांव में श्रीधान विधि (SRI) की योजना शुरू की गई थी, जिसमें लगभग 50 किसानों को श्रीधान विधि का प्रशिक्षण दिया गया। शोभा देवी ने भी यह प्रशिक्षण लिया।

 

 

प्रशिक्षण लेकर उन्होंने 50 किसानों को प्रैक्टिकल (Prectical) व मौखिक तौर पर खेतों में जाकर प्रशिक्षण दिया, जिससे धान की पैदावार में काफी बढ़ोतरी हुई। सवेरा संस्थान रैन्खा ज्वालामुखी के माध्यम से इन्हें सरकारी व स्वयं सेवी संस्थाओं में जाने का अवसर प्राप्त हुआ। शोभा देवी ने दो पंचायतों खबली व पाइसा स्वयं सहायता समूहों का गठन भी किया व उन्हें बैंक के माध्यम से आवश्यकतानुसार ऋण भी उपलब्ध करवाया व उन्हें प्राकृतिक खेती करने के लिए प्रेरित किया।

 

 

पानी के टैंक में उगाती हैं राजस्थान से लाया विशेष अजोला घास

शोभा देवी अपनी पंचायत में दो बार वार्ड सदस्य भी चुनी जा चुकी हैं। अपने वार्ड में बहुत विकास कार्य करवाए हैं। उन्होंने कृषि विभाग के माध्यम से विभिन्न-विभिन्न प्रशिक्षण भी लिए हैं। इसके बाद उद्यान विभाग देहरा के सहयोग से पॉली हाउस लगाया, जिसमें कई तरह की सब्जियों का उत्पादन किया जा रहा है। शोभा देवी ने बताया कि पिछले सीजन में उन्होंने 15 हजार का धनिया व 35 हजार के टमाटर बिक्री किए थे। इस वर्ष आय तीन गुणा हो जाएगी। इसके साथ उन्होंने एक विशेष किस्म की घास का उत्पादन भी किया है। यह अजोला किस्म का घास पानी के टैंक में उगाया जा रहा है। इसका बीज राजस्थान से लाया गया है, जो पशुओं के लिए बहुत ही पौष्टिक है।

 

 

सुभाष पालेकर विधि से जीवामृत खाद, घन अमृत खाद व बीजा अमृत खाद तैयार की जा रही है। शोभा देवी सवेरा संस्थान के साथ स्वयं सहायता समूहों के गठन का कार्य भी कर रही हैं, इनका उद्देश्य है कि सभी महिलाओं को प्राकृतिक खेती का प्रशिक्षण दिया जाए व उन्हें प्राकृतिक खेती करवा कर आत्मनिर्भर बनाया जाए।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है