कलयुग में श्रवण से लेनी चाहिए सीख, कैसे करनी है माता-पिता की सेवा

बेटे ने तीर्थ यात्रा करवाने के लिए अपने प्राण तक भी गंवा दिए

कलयुग में श्रवण से लेनी चाहिए सीख, कैसे करनी है माता-पिता की सेवा

- Advertisement -

आज कलयुग (Kalyug) है। आज के समय में औलाद अपने माता-पिता (Parents) का ध्यान नहीं रखती। ये वही माता-पिता होते हैं जिन्होंने अपने बच्चों की परवरिश के लिए सारी जिंदगी गंवा दी होती है। मगर जब उनका बुढ़ापा आता है तो उन्हें उपेक्षित और प्रताड़ित किया जाता है। यहां तक उनको बोझ समझ कर वृद्ध आश्रम में छोड़ दिया जाता है। मगर श्रवण (Shravan) भी एक ऐसा बेटा हुआ है जिसने माता-पिता की सेवा की खातिर अपने जीवन का सुख नहीं देखा। माता-पिता ने जब तीर्थयात्रा की इच्छा जताई तो श्रवण ने इसको अपना कर्तव्य समझ लिया।

यह भी पढ़ें:इस प्रकार करोगे मां अन्नपूर्णा का पूजन तो भरे रहेंगे भंडार

भले ही पैरों में चप्पल या जूता नहीं था मगर जैसे-तैसे अपने अंधे माता-पिता को तीर्थ यात्रा करवाने के लिए एक बहंगी का इंतजाम किया और एक निर्धारित समय के अनुसार माता-पिता को यात्रा करवाने चल निकला। पथरीले रास्तों और कंटीले जंगलों की परवाह ना करता हुआ भी वह अपने माता-पिता को तीर्थों के दर्शन करवाता चला गया। इसी आपाधापी में वह राजा दशरथ की रियासत में भी पहुंचा जहां अंधे माता-पिता ने पानी पीने की इच्छा जताई। श्रवण आज्ञा मानकर पानी लाने चला गया और जैसे ही घड़ा पानी में डिबोया तो उसमें आवाज आई। इस आवाज को राजा दशरथ v( King Dashrath) शिकार समझ बैठा और तीर छोड़ दिया और श्रवण की मौके पर ही मौत हो गई। हमें श्रवण सिखा गया कि अपने माता-पिता की सेवा करने में चाहे प्राण भी गंवाना पड़े, हमें पीछे नहीं हटना चाहिए। माता-पिता की सेवा करने से लोक और परलोक दोनों सुधर जाते र्हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है