Expand

ईमानदारी से कार्य करें अधिकारी-कर्मचारी, नहीं तो…

ईमानदारी से कार्य करें अधिकारी-कर्मचारी, नहीं तो…

- Advertisement -

जुखाला। वर्ष 2012 में सायर मेले को उस समय की प्रदेश सरकार ने जिला स्तरीय मेले का दर्जा दिया था, जिसके बाद इस मेले को करवाने की जिम्मेदारी प्रशासन की बन जाती है, परन्तु सरकार बदलने के साथ ही प्रशासन ने इस मेले की तरफ से अपना रुख मोड़ लिया। सत्ता पक्ष के लोग इस मेले को खराब करने में लगे हैं और इसमें कुछ कर्मचारी और अधिकारी भी उनका सहयोग कर रहे हैं। यह बात श्री नैनादेवी के विधायक रणधीर शर्मा ने जिला स्तरीय सायर मेले के शुभारंभ पर कही। उन्होंने जिला स्तरीय सायर मेला का शुक्रवार को खूंटा गाड कर आगाज हो गया। उन्होंने मंच से ऐसे कर्मचारियों और अधिकारियों को चेतावनी देते हुए कहा कि सरकारें आती जाती रहती हैं। कर्मचारी अपना काम पूरी ईमानदारी से करें, जो कर्मचारी अपना काम नेताओं के कहने पर ईमानदारी से नहीं कर रहे हैं वो परिणाम भुगतने के लिए तैयार रहें। ऐसे कर्मचारियों को कतई बक्शा नहीं जाएगा। रणधीर शर्मा ने कहा की इस क्षेत्र में पूर्व सरकार के समय बहुत से विकास कार्य हुए है पर वर्तमान सरकार इस क्षेत्र के साथ बदले की भावना से कार्य कर रही है। अस्पताल में 6 चिक्तिसकों के पद होते थे, जिसमें से सरकार ने तीन पदों को खत्म कर दिया और वर्तमान में यहां पर मात्र एक ही चिकित्सक सेवाएं दे रहा है। अगर वो छुट्टी चला जाए तो यहां पर कोई चिकित्सक देखने वाला नहीं होता। इसी तरह से स्कूलों में अध्यापक नहीं है। कॉलेज में प्रोफेसर नहीं है। उन्होंने कहा की इस क्षेत्र के किसान और बागवान पूरे प्रदेश में अपने उत्पादों के लिए प्रसिद्ध है, जिसके लिए उन्होंने इसी क्षेत्र में सब्जी मंडी कोल्ड स्टोर के साथ स्वीकृत करवाई थी, परन्तु कुछ लोगों ने उसके खिलाफ न्यायालय से स्टे ले लिया, जिस कारण उसका यहां पर निर्माण नही हो सका।

randhir-sharmaन्यायालय ने भी दो साल पहले अपना फैसला दे दिया है कि इस कोल्ड स्टोर और सब्जी मंडी का निर्माण उसी स्थान पर किया जाए जहां पर पहले किया जा रहा था परन्तु दो वर्ष से अधिक का समय बीत जाने के बाद भी सरकार इस कोल्ड स्टोर और सब्जी मंडी का निर्माण नहीं कर रही है। उन्होंने कहा कि यदि सरकार जल्द से यहां पर इसका निर्माण नहीं करती है तो वो इसके खिलाफ प्रदर्शन करेंगे। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार के सता में आते ही सबसे पहला काम  इस कोल्ड स्टोर और सब्जी मंडी का निर्माण करने का होगा। रणधीर शर्मा ने मेला समिति को मेले के सफल आयोजन के लिए 51 हजार रुपए नकद दिए और मेला काम्प्लेक्स के हो रहे निर्माण कार्य को पूरा करने के लिए डेढ़ लाख रु देने कि घोषणा की। उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष उन्होंने मेले में मंच निर्माण के लिए डेढ़ लाख रुपए देने की घोषणा की थी। यह पैसा ब्लाक में आ गया है और जल्द ही इस मेले का मंच बन कर तैयार हो जाएगा और अगले वर्ष से मेला समिति के पास अपना मंच उपलब्ध होगा। खूंटा गाड़ने से पहले मेला समिति ने शिव मंदिर गसौड़ से मेला स्थल तक शोभायात्रा निकाली तथा शिव मंदिर में मेले के सफल आयोजन के लिए प्रार्थना की। इस शोभायात्रा में विधायक रणधीर शर्मा के साथ क्षेत्र के लोगों ने भाग लिया। मुख्यतिथि ने मेले में लगी बागवानी कृषि स्वास्थ्य तथा पशु प्रदर्शनियों का अवलोकन किया, जिसके बाद मेला समिति ने मुख्यतिथि को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया।

jukhla-randirमुख्यातिथि रणधीर शर्मा ने सभी लोगों को सायर पर्व पर बधाई और शुभकामनाएं दीं। उन्होंने कहा कि मेले आपसी प्यार और भाईचारे से आयोजित होते है मेले में राजनीती नहीं करनी चाहिए राजनीति के लिए अलग से बहुत से मंच है। सायर मेले का 9 वर्ष से सफल आयोजन करने पर उन्होंने मेला समिति को बधाई दी। इस मौके पर पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष दौलत राम ठाकुर, जिला सहकारी प्रकोष्ट के अध्यक्ष संत राम वैद, पूर्व बीडीसी चेयरमैन अधिवक्ता अमर सिंह ठाकुर, मेला समिति के अध्यक्ष अमर सिंह ठाकुर, पूर्व भाजयुमो जिला अध्यक्ष बृज लाल ठाकुर, भाजपा सदर मंडल के पूर्व अध्यक्ष बृज लाल ठाकुर, महासचिव सुख राम सोढ़ी जुखाला पंचायत की प्रधान अनीता ठाकुर, उपप्रधान जगदीश ठाकुर, बीडीसी सदस्य कमलेश संख्यान, स्याहुला पंचायत के पूर्व प्रधान प्यारे लाल शर्मा इत्यादि गणमान्य सदस्य उपस्थित थे।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है