Covid-19 Update

2,06,589
मामले (हिमाचल)
2,01,628
मरीज ठीक हुए
3,507
मौत
31,767,481
मामले (भारत)
199,936,878
मामले (दुनिया)
×

इस बार भी श्रीखंड यात्रा पर नहीं जा पाएंगे भक्त, कोरोना के चलते लगी रोक

प्रशासन ने यात्रा के बेस कैंप सिंहगाड में तैनात किए पुलिस कर्मी

इस बार भी श्रीखंड यात्रा पर नहीं जा पाएंगे भक्त, कोरोना के चलते लगी रोक

- Advertisement -

आनी। उतर भारत की सबसे कठिनतम धार्मिक यात्रा श्रीखंड पर प्रशासन ने इस वर्ष भी कोरोना महामारी के चलते रोक लगा दी है। डीसी कुल्लू आशुतोष गर्ग ने बताया कि श्रीखंड यात्रा ट्रस्ट के अधीन 15 जुलाई से 25 जुलाई तक चलने बाली श्रीखंड यात्रा को कोरोना महामारी के मद्देनजर इस वर्ष भी रोका गया है। इस यात्रा पर समूचे भारतवर्ष से हर वर्ष हजारों शिव भक्त महादेव के दर्शनों को निकलते हैं। गत वर्ष कोरोना महामारी के चलते इस धार्मिक यात्रा पर पूर्णतयः रोक लगाई गई थी,जो इस वर्ष भी महामारी से बचाव के दृष्टिगत बंद रहेगी। डीसी ने कहा कि प्रशासन फिलहाल यात्रा को लेकर किसी भी प्रकार का जोखिम नहीं लेना चाहता। क्योंकि कोरोना महामारी का प्रकोप अभी तक पूरी तरह से थमा नहीं है।इसलिए इस संबंध में सरकार द्वारा जारी आगामी निर्देशों तक श्रीखंड यात्रा पर पूर्णतयः रोक रहेगी। वहीं श्रीखंड यात्रा ट्रस्ट के उपाध्यक्ष एवं एसडीएम आनी चेतसिंह ने बताया कि आगामी 15 जुलाई से शुरू होने बाली श्रीखंड कैलाश यात्रा पर इस वर्ष भी डीसी कुल्लू के निर्देशानुसार रोक रहेगी, जिसके अंतर्गत यात्रा पर किसी भी भक्त को जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी जिसके लिए प्रशासन ने यात्रा के बेस कैम्प सिंहगाड में पुलिस बल तैनात कर दिया है। एसडीएम ने कहा कि बाबजूद इसके यदि कोई यात्री सरकारी आदेशों की अवहेलना कर, ज़बरन यात्रा पर निकलता है, तो उसके खिलाफ सख्त कानूनी कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।

यह भी पढ़ें: शिमला में सीएम आवास के पास मिला नवजात, कुछ ही घंटों में दबोची बिन ब्याही मां


 

 

बहरहाल हिमाचल प्रदेश सहित समूचे भारतवर्ष से श्रीखंड कैलाश के दर्शनों को आने वाले शिव भक्तों को गत वर्ष की भांति इस वर्ष भी भोले के दर्शनों से महरूम रहना पड़ेगा। बता दें कि समुद्रतल से 18570 फीट की ऊंचाई पर स्थित श्रीखंड कैलाश की यात्रा उतरी भारत की सबसे कठिनतम धार्मिक यात्रा है, जिसमें भक्तों को 32 किमी का कठिन व ग्लेशियरयुक्त मार्ग पैदल तय करना पड़ता है और यात्रा के दौरान ऊंचाईं पर आक्सीजन की कमी भी रहती है। बावजूद इसके भोले के दर्शन को भक्तों का साहस कम नहीं होता। यह यात्रा प्रतिवर्ष 15 जुलाई से प्रशासन की देखरेख में शुरू की जाती है।यात्रा के लिए भक्त शिमला से रामपुर होते हुए “एशिया के सबसे बड़े गांव निरमण्ड”पहुंचते हैं। जहां माता अम्बिका और भगवान परशुराम के दर्शनों के बाद भक्त सड़क मार्ग से वाहन द्वारा यात्रा के बेस कैंप सिंहगाड वाया बागीपुल जाओं होकर पहुंचते हैं। यात्रा में भक्तों व श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए हालांकि प्रशासन द्वारा हर प्रकार की व्यवस्था की जाती है मगर इसके इसके अलावा श्रीखंड सेवादल व सेवा समितियां भी भक्तों के लिए खाने पीने व रहने सहने की सेवा करती हैं। यात्रा पर गत वर्ष की भांति इस वर्ष भी कोरोना महामारी के चलते रोक लगने से शिव भक्तों को निराशा हाथ लगी है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है