×

आदेशः श्रीराम मंदिर रूढ़ा के संचालक को दो उचित सुरक्षा

आदेशः श्रीराम मंदिर रूढ़ा के संचालक को दो उचित सुरक्षा

- Advertisement -

Shriram Temple Rudha: शिमला। प्रदेश हाईकोर्ट ने सरकार को आदेश दिए कि श्रीराम मंदिर रूढ़ा के संचालक स्वामी अमरदेव व मंदिर परिसर को उचित सुरक्षा मुहैया करवाई जाए। कोर्ट ने एसपी सोलन को आदेश दिए कि प्रार्थी अमरदेव द्वारा यदि सुरक्षा को लेकर उनके समक्ष आवेदन किया जाता है तो वह तुरंत प्रार्थी के आवेदन पर निर्णय लेते हुए बाबा को उचित सुरक्षा मुहैया कराए। कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश संजय करोल व न्यायाधीश संदीप शर्मा की खंडपीठ ने स्वामी अमरदेव द्वारा सुरक्षा की मांग करने वाली याचिका की प्रारंभिक सुनवाई के पश्चात यह आदेश पारित किए।


Shriram Temple Rudha:हाईकोर्ट ने प्रदेश सरकार को दिया आदेश

प्रार्थी द्वारा दायर याचिका में कहा गया है कि 26 अप्रैल को ग्राम पंचायत तूंदल के सैकड़ों लोगों ने गैरकानूनी तरीके से एकत्रित होकर रामलोक मंदिर व संचालक अमरदेव पर जानलेवा हमला कर दिया था। कुछ लोग तेजधार हथियारों के साथ आए थे व कुछ लोगों ने शराब भी पी रखी थी।

याचिका के अनुसार पूर्व प्रधान कुंजा देवी, शांति देवी व दीपा शर्मा ने स्वामी को कॉलर से पकड़ा और सभी ने उन पर दराट से हमला कर दिया। इस हमले में शांति देवी खुद भी घायल हो गई थी। प्रार्थी ने प्रवीण व योगेश पर आरोप लगाते हुए कहा कि इन्होंने स्वामी के सिर पर दराट से वार किए। इसके बाद एकत्रित लोगों में रमेश ठाकुर ने पेट्रोल छिड़क कर स्वामी सहित पूरा मंदिर परिसर नष्ट करने की धमकियां देते हुए लोकेश्वर शर्मा के साथ जलती हुई मशाल के साथ आ धमका। दराट के घावों के कारण स्वामी अमरदेव अचेत हो गए। अचेत अवस्था में भी लोगों ने उन्हें डंडों व रॉडों से जख्मी किया।

याचिका में कहा गया कि कंडाघाट पुलिस को सूचित करने पर पुलिस ने बड़ी दुर्घटना घटने से तो रोक लिया, लेकिन अभी भी उन्हें जानमाल का खतरा बना हुआ है। प्रार्थी ने 2 लाख रुपए लूटे जाने का आरोप भी याचिका में लगाया गया है। याचिका में आरोप लगाया गया है कि 26 अप्रैल को ही आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवा दी गई थी, लेकिन सभी आरोपियों के राजनीतिक रसूख व दबाव के चलते उनकी प्राथमिकी पर कोई भी कार्रवाई नहीं की गई है। इतना कुछ होने पर उलटे उनके खिलाफ ही एफआईआर दर्ज कर् दी गई। प्रार्थी ने इस मामले की जांच करने वाले जांचकर्ता अधिकारी को हटाने की मांग करते हुए इस घटना की सीबीआई से जांच करवाने की मांग भी की गई है।

जोगिंद्रनगर के Hospital में ‘अघोषित तालाबंदी‘

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है