- Advertisement -

भाई दूज पर इस शुभ मुहूर्त में लगाएं तिलक

0

- Advertisement -

भाई-बहन का रिश्ता बहुत ही खास होता है और इस रिश्ते के महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है भाई दूज। भाई दूज का पर्व कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाया जाता है।इस दिन बहनें रोली और अक्षत से अपने भाई का तिलक कर उसके उज्ज्वल भविष्य की कामना करती हैं। भाई भी अपनी बहन को कुछ उपहार देता है। इस साल भाई दूज का त्योहार 9 नवंबर (शुक्रवार) को मनाया जा रहा है। हम आपको बताते हैं कि किस मुहूर्त में आपको तिलक लगाना है और किस तरह पूजा करनी है …

भाई दूज के लिए शुभ मुहूर्त :

शुभ मुहूर्त शुरू – दोपहर 1:10 मिनट
शुभ मुहूर्त समाप्त – दोपहर 3:27 मिनट
शुभ मुहूर्त की अवधि – 2 घंटे 17 मिनट

ऐसे करें भाई दूज पर पूजा :

सबसे पहले नहा-धोकर तैयार हो जाएं फिर आटे का चौकी तैयार कर लें। अगर आप व्रत करती हैं तो सूर्य को जल देकर व्रत शुरू करें। शुभ मुहूर्त आने पर भाई को चौकी पर बिठाएं और उसके हाथों की पूजा करें। सबसे पहले भाई की हथेली में चावल का घोल लगाएं फिर उसमें सिंदूर, पान, सुपारी और फूल वगैरह रखें। अंत में हाथों पर पानी अर्पण कर मंत्रजाप करें। इसके बाद भाई का मुंह मीठा कराएं और खुद भी मीठा खाएं। शाम के समय यमराज के नाम का दीया जरूर जलाएं।

तिलक करते समय पढ़ें ये मंत्र –

गंगा पूजा यमुना को, यमी पूजे यमराज को ।
सुभद्रा पूजे कृष्ण को गंगा यमुना नीर बहे, मेरे भाई आप बढ़ें फूले फलें ।।

- Advertisement -

Leave A Reply